मध्य प्रदेश कृषि विभाग में सराहनीय नवाचार, अपनाया  ई मॉडल

Share

31 मार्च 2022, भोपाल । मध्य प्रदेश कृषि विभाग में सराहनीय नवाचार, अपनाया  ई मॉडल मध्य प्रदेश कृषि विभाग में 705 ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों और 67 वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारियों की नियुक्ति के लिए अभिलेखों के सत्यापन का कार्य सम्पन्न हुआ। एक सप्ताह से जारी इस सुव्यवस्थित प्रक्रिया में अपनाए गए नवाचार की सराहना प्रदेश के कृषि मंत्री श्री कमल पटेल के साथ साथ संचालक कृषि तथा प्रशासनिक स्तर पर एवं नियुक्त होने जा रहे अभ्यार्थियों और उनके पालकों द्वारा भी की जा रही है। यह पूरा सिस्टम कृषि संचालनालय के उप संचालक श्री अवधेश नेमा द्वारा प्रोग्राम किया गया था। इस प्रक्रिया में चुनाव प्रक्रिया तथा पासपोर्ट ऑफिस की प्रक्रिया का मिला जुला संगम था. सत्यापन दल के प्रत्येक सदस्य का कार्य एवं  प्रत्येक सदस्य के बैठने का स्थान, सदस्य के पास आवश्यक सामग्री, सदस्य के द्वारा किए जाने वाले कार्य सभी कुछ पूर्व निर्धारित किया गया था। सत्यापन स्थल पर प्रवेश द्वार से अभ्यर्थियों को कब कहाँ जाना है, क्या करना है, इसका फ्लो चार्ट एवं सम्पूर्ण प्रकिया डिस्प्ले बोर्ड पर भी थी । बोर्ड पर अभ्यर्थियों के सत्यापन क्रमांक के सामने उनके स्टेटस को ऑनलाइन अपडेट किया जा रहा था। इसकी लिंक भी वरिष्ठ अधिकारियों को प्रेषित की गई थी जिससे डिसप्ले बोर्ड को वो कभी भी अपने मोबाइल पर देख सकते थे ।

डॉक्यूमेंट  सत्यापन के बारे में लिखित सूचना पत्र जारी किया गया तथा साथ ही इसे विभाग की वेबसाइट पर भी ऑनलाइन उपलब्ध कराया गया था । सत्यापन स्थल पर लगे बड़े डिस्प्ले बोर्ड पर पांच समूह में बांटे गए अभ्यार्थियों को पूर्व से आवंटित सत्यापन क्रमांक के क्रम में आमंत्रित किया गया। सबसे पहले बायोमैट्रिक्स द्वारा उपस्थिति दर्ज कराई गई तत्पश्चात चेक लिस्ट के अनुसार सत्यापन किए गए। इस पूरी प्रक्रिया की प्रविष्टि मोबाइल के माध्यम से अपडेट  की गई। यह  विशेष रूप से विकसित किये गए मोबाइल ऐप के माध्यम से संचालित की गई । पूरी  प्रक्रिया की मॉनिटरिंग प्रवेश बिंदु से लेकर सत्यापन पूर्ण होने तक उच्चाधिकारियों द्वारा की गई। संचालक कृषि श्रीमती प्रीति मैथिल एवं अपर मुख्य सचिव श्री अजीत केसरी द्वारा इसे अपने कार्यालय से समय समय पर देखा गया। पासपोर्ट कार्यालय की तर्ज पर अपनाई गई इस पारदर्शी, त्वरित, त्रुटिहीन और अभूतपूर्व व्यवस्था पर संतोष व्यक्त करते हुए विभागीय अधिकारियों की सराहना की।

संचालक कृषि श्रीमती प्रीति मैथिल ने नियुक्ति प्रक्रिया में जुटे  पूरे दल को बधाई दी और वेरिफिकेशन सिस्टम का निरीक्षण भी मौके पर किया। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा अपनाए गए इस मॉडल को अन्य विभागों द्वारा प्रयोग के लिए भी सुझाया जाएगा । कृषि विभाग अधुनातन तकनीकों को खेतों के साथ कृषि कार्यालयों में भी अपना रहा है।

 
 

महत्वपूर्ण खबर: ग्रीष्मकालीन मौसम में कद्दूवर्गीय सब्जियों की खेती

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.