राज्य कृषि समाचार (State News)

डिजिटल माध्यम से किसानों को वैज्ञानिकों से जोड़कर कृषि तकनीक द्वारा लाभान्वित करें- कुलपति डॉ. बिसेन

Share

15 जुलाई 2022, जबलपुर । डिजिटल माध्यम से किसानों को वैज्ञानिकों से जोड़कर कृषि तकनीक द्वारा लाभान्वित करें- कुलपति डॉ. बिसेन – जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय के कृषि विज्ञान केन्द्र जबलपुर में कुलपति डॉ. प्रदीप कुमार बिसेन के मुख्यआतिथ्य में 18 वीं वैज्ञानिक परामर्षदात्री समिति की बैठक का आयोजन किया गया। कुलपति डॉ. प्रदीप कुमार बिसेन ने कहा कि डिजिटल एवं सोशल मीडिया के माध्यम से अधिक से अधिक किसानों को वैज्ञानिकांे से जोड़कर लाभान्वित किया जाये, जिससे किसान जागरूक होकर अपनी खेती की पैदावार बढ़ा सके। केन्द्र की प्रमुख वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख डॉ. रश्मि शुक्ला द्वारा कार्य योजना का प्रस्तुतिकरण पॉवर प्वॉइंट के माध्यम से दिया गया। इसके साथ ही बैठक में सम्मिलित समस्त सदस्यों द्वारा सुझाव आमंत्रित किये गये। इस अवसर पर संचालक विस्तार सेवायें डॉ. डी. पी. शर्मा ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये कहा कि कृषि अभियांत्रिकीय विभाग के समन्वय से जिले में किसानों को फार्म मशीनरी के उपयोग हेतु प्रोत्साहित किया जाये। विशेष अतिथि कृषि अनुसंधान परिषद, अटारी निदेशक डॉ. एस. आर. के. सिंह ने किसानों के साथ मिलकर जनभागीदारी के साथ बीज उत्पादन हेतु जागरूकता लाने पर जोर दिया।

जिला संभागीय अधिकारी कृषि अभियांत्रिकी श्री एस. के. चौरसिया तथा श्री राणा ने कहा कि फार्म मशीनरी द्वारा धान एवं अन्य फसलों की बोनी एवं कटाई हेतु कृषकों को प्रेरित किया जाये। बैठक के दौरान उपस्थित अन्य सदस्यों एवं विभागाध्यक्ष उद्यान विभाग एस. के. पाण्डे एवं विभागाध्यक्ष कीटशास्त्र डॉ. एस. व्ही. दास एवं विष्वविद्यालय के सूचना एवं जनसम्पर्क अधिकारी डॉ. शेखर सिंह बघेल ने बैठक में अपने महत्वपूर्ण सुझाव प्रस्तुत किये। कार्यक्रम में कुलपति डॉ. बिसेन एवं अतिथिगणों द्वारा कृषि साहित्य का विमोचन भी किया गया साथ ही उद्यमियों द्वारा तैयार ऑवला के मूल्य संबंधित उत्पाद, मशरूम का ड्राय पाउडर आदि का प्रदर्शन किया गया।

जिले के अन्य विभागों के प्रतिनिधि के रूप में डी. डी. एम. नबार्ड श्री अपूर्व गुप्ता, श्रीमति नविता उड़कुड़े, सृष्टि सिंह, राष्ट्रीय बीज निगम। एन. जी. ओ. प्रतिनिधि कु. ममता सिंह, श्री महेन्द्र सिंह, कृषक उत्पादक संगठनों के सी. ई. ओ. श्री हरिशंकर तिवारी, कृषि उद्यमी श्री संजय गुप्ता, वर्षा हजारी, अंजली हजारी, एग्रो. इण्डस्ट्री से श्री अभिषेक शर्मा, श्री अजीत कृपाल साहू सहित जिले के प्रगतिशील कृषक श्री गेदालाल कुशवाहा, श्री रामफल झारिया, श्री किशनलाल आदि सम्मानीय सदस्यों द्वारा आगामी खरीफ कृषि कार्य हेतु महत्वपूर्ण सुझाव दिये है। कार्यक्रम के सफल संचालन में कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक डॉ. डी.के. सिंह, डॉ. ए. के. सिंह, डॉ. यतिराज खरे, डॉ. नीलू विश्वकर्मा, डॉ. नितिन सिंघई, डॉ. अक्षता तोमर, डॉ. निहारिका शुक्ला, डॉ. पूजा चतुर्वेदी एवं डॉ. नेहा शर्मा का महत्वपूर्ण योगदान रहा। कार्यक्रम का संचालन डॉ. नितिन सिंघई एवं आभार प्रदर्शन डॉ. डी. के. सिंह के द्वारा किया गया।

महत्वपूर्ण खबर: छोटे किसानों के जीवन में बदलाव लाने मिलकर काम करें – श्री तोमर

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *