मध्य प्रदेश में सभी प्राथमिक कृषि साख समितियों को कम्प्यूटराइज्ड किया जाएगा – श्री भदौरिया

Share

27 अप्रैल 2022, भोपाल । मध्य प्रदेश में सभी प्राथमिक कृषि साख समितियों को कम्प्यूटराइज्ड किया जाएगा – श्री भदौरिया मध्य प्रदेश के सहकारिता एवं लोक सेवा प्रबंधन मंत्री श्री अरविंद भदौरिया ने कहा कि आर्थिक गड़बडिय़ाँ रोकने के लिए प्रदेश की सभी प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों को कम्प्यूटराइज्ड किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सहकारी समितियों में आर्थिक गड़बडिय़ों के मामलों में सख्त कार्रवाई होना चाहिए। श्री भदौरिया ने ज्यादा से ज्यादा किसानों को केसीसी योजना का लाभ देने के सहकारिता अधिकारियों को निर्देश दिए। सहकारिता मंत्री ने गत दिनों बैतूल जिला मुख्यालय पर सहकारिता विभाग की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि सहकारी बैंक की ऋण वसूली पर भी विशेष ध्यान दिया जाए। वसूली बेहतर होगी तो किसानों को ज्यादा लाभ मिल सकेगा। सांसद श्री डी.डी. उइके, पूर्व मंत्री एवं विधायक सिलवानी श्री रामपाल सिंह, विधायक आमला डॉ. योगेश पंडाग्रे, कलेक्टर श्री अमनबीर सिंह बैंस, संयुक्त रजिस्ट्रार सहकारिता श्री अभय खरे सहित सहकारिता विभाग के अधिकारी मौजूद थे।

श्री भदौरिया ने खरीफ सीजन के लिए खाद के अग्रिम भंडारण की जानकारी लेते हुए कहा कि किसानों को खाद वितरण में कोई असुविधा न हो, इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा कि पशु एवं मछली पालकों को भी केसीसी योजना का लाभ मिले, इस बात का ध्यान रखा जाए। फसल बीमा का लाभ एक ही बैंक से मिले, यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए।

कलेक्टर श्री अमनबीर सिंह बैंस ने सुझाव दिया कि जिले में जिन सहकारी समितियों से ग्रामों की दूरी 20 किमी से अधिक है एवं किसानों को इन समितियों तक आने में असुविधा होती है, वहाँ पुनर्सीमन कर किसानों की सुविधा अनुसार समितियों का कार्य क्षेत्र बनाया जाए। उन्होंने बताया कि गेहूँ उपार्जन में बिचौलिए लाभ न ले सकें, इसके लिए जिले में दतिया मॉडल लागू किया गया है। सांसद श्री उइके एवं विधायक डॉ. पंडाग्रे द्वारा सहकारिता क्षेत्र में बेहतर कार्य से संबंधित आवश्यक सुझाव भी दिए गए।

महत्वपूर्ण खबर: देश की प्रमुख मंडियों में गेहूं के मंडी रेट और आवक (26 अप्रैल 2022 के अनुसार)

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.