कृषि कंपनियां ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से बिक्री बंद करें – श्री कलंत्री

Share

13 अगस्त 2022, इंदौर: कृषि कंपनियां ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से बिक्री बंद करें – श्री कलंत्री – कृषि आदान उत्पादों की ऑनलाइन बिक्री से कृषि क्षेत्र में उत्पाद की गुणवत्ता के साथ ही किसानों को होने वाली अन्य आर्थिक धोखाधड़ी की आशंकाओं को देखते एग्रो इनपुट डीलर्स एसोसिएशन, नई दिल्ली के अध्यक्ष श्री मनमोहन कलंत्री ने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से अपने उत्पाद बेचने वाली देश की सभी कंपनियों को पत्र भेजकर इस संबंध में 20 अगस्त तक अपना रुख स्पष्ट करने को कहा है।

कृषि कंपनियां ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से बिक्री बंद करें – श्री कलंत्री

कृषक जगत से चर्चा करते हुए श्री कलंत्री ने कहा कि कृषि आदान को अब ऑन लाइन भी भेजा जाने लगा है ,लेकिन इस व्यवस्था से किसानों के साथ धोखाधड़ी होने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता है। इसे लेकर एग्रो इनपुट डीलर्स एसोसिएशन ने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से अपने उत्पाद बेचने वाली देश की सभी कंपनियों को पत्र भेजकर ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से बिक्री बंद करने का आह्वान किया है। श्री कलंत्री ने कहा कि कंपनियों के व्यवसाय की प्रगति में डीलर नेटवर्क का बड़ा योगदान है। कृषि उत्पादन में देश आत्मनिर्भर और कृषि आयातक से निर्यातक बना है। नए लाइसेंस विनियमन के बाद डीलर अब सभी प्रकार के उत्पादों, नई तकनीकों को आगे बढ़ाने में सक्षम हैं और किसानों को उपयुक्त उत्पाद की बेहतर सलाह दे सकते हैं।

श्री कलंत्री ने कहा कि डीलर से मिलने वाले लाभों की तुलना ऑनलाइन बाजार से नहीं की जा सकती, जहां कोई व्यक्तिगत मार्गदर्शन या सुझाव नहीं है। ऑनलाइन बाजार मांग संचालित बाजार है, जो किसानों को नई तकनीक नहीं पहुंचा सकता है। कंपनियों को भी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से गलत ब्रांड वाले (मिस-ब्रांडेड) उत्पादों की बिक्री की समस्या का सामना करना पड़ा है।कूरियर सेवाओं या अप्रशिक्षित डिलीवरी एजेंटों के द्वारा कीटनाशकों की डिलीवरी खतरनाक है। आजकल ऑन लाइन से धोखाधड़ी के कई मामले सामने आ रहे हैं। फर्जी लोग ओटीपी मांगकर बैंक से पैसा निकाल रहे हैं। जागरूक लोग इनके शिकार बन रहे हैं, ऐसे में यदि कोई अनपढ़ /गरीब किसान को उत्पाद की कम कीमत का लालच देकर धोखाधड़ी करेगा तो उसके लिए कौन ज़िम्मेदार होगा ? यह बहुत बड़ा खतरा है। इसीलिए एसोसिएशन ने सभी कंपनियों से ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए अपने उत्पादों की बिक्री बंद करने का आह्वान किया है। कंपनियों से 20 अगस्त 2022 तक अपना रुख साझा करने को कहा है। एसोसिएशन ने उन कंपनियों के साथ सहयोग करने का फैसला लिया है, जो अपने उत्पादों को ऑफलाइन सेटअप के माध्यम से बेचेंगी।

महत्वपूर्ण खबर: शुभम को ग्रीष्मकालीन मूंग का मिला बेहतर उत्पादन

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.