कटनी में लोकप्रिय बासमती धान बादशाह भोग की एडवांस बुकिंग

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

कलेक्टर ने देखी उन्नत खेती और उद्यानिकी

कटनी में लोकप्रिय बासमती धान बादशाह भोग की एडवांस बुकिंग – मध्य प्रदेश में कटनी जिले के कलेक्टर शशिभूषण सिंह ने गत सप्ताह  बड़वारा, बरही और विजयराघवगढ़ क्षेत्र के उन्नतशील किसानों द्वारा की जा रही खेती और बागवानी  का अवलोकन किया। इस मौके पर उप संचालक ए.के. राठौर, परियोजना अधिकारी उद्यानिकी सूर्यभान सिंह उपस्थित रहे। कलेक्टर श्री सिंह ने मझगवां के उन्नतशील कृषक 81 वर्षीय अट्ठी लाल कुशवाहा द्वारा की जा रही जैविक और उन्नत पद्धति से सब्जी और फसलों की खेती का अवलोकन किया। उन्होने कृषक द्वारा लगभग 7 एकड़ भूमि में लगाई गई विभिन्न प्रकार की सब्जियों की फसल तथा शेडनेट हाउस में ली जा रही गोभी की फसल का निरीक्षण किया। कलेक्टर ने ग्राम अमाड़ी में उन्नतशील कृषक मनु नारला द्वारा उन्नत पद्धति से ली जा रही केला, पपीता और बासमती धान की फसल का अवलोकन किया। कृषक मनु नारला ने बताया कि पारम्परिक बासमती धान के अलावा बादशाह भोग की किस्म भी लगाई है। हाईब्रिड बासमती धान लगभग 50 क्विंटल प्रति एकड़ तक का उत्पादन प्राप्त करते हैं और इस बार उनके द्वारा ली जा रही बासमती चावल की किस्म बादशाह भोग की धान 11 हजार रुपये क्विंटल के मान से एडवांस विक्रय भी हो चुकी है। किसान ने पपीते के अलावा विभिन्न किस्मों जी-19, अमृतपाणी और शकरकेला, टिशूकल्चर के केले भी लगाये हैं। कलेक्टर ने ग्राम बसाड़ी में किसान विजय मिश्रा द्वारा 11 एकड़ क्षेत्र में ली जा रही उद्यानिकी फसल आम और नींबू की खेती का भी निरीक्षण किया। कलेक्टर श्री सिंह ने किसान को धान के फसल कटे खेतों में डण्ठल और नरवाई में आग नहीं लगाने की समझाईश दी। उन्होने कहा कि जिले में खेतों में नरवाई जलाने पर सख्त प्रतिबंध लगाया गया है। इसमें दण्ड का भी प्रावधान है। खेतों में नरवाई जलाने से मृदा की उर्वरा शक्ति नष्ट होती है और इससे जानमाल का नुकसान भी होता है। खेतों की नरवाई को गहरी जुताई से मिट्टी में ही नष्ट करें।

महत्वपूर्ण खबर : कृषि विभाग में पदों की भर्ती के लिए 10 से होंगे आवेदन

7 किसानों को बांटे मसूर बीज किट

कलेक्टर शशिभूषण सिंह ने मझगवां के हाटबाजार मेंकिसानों को कृषि विभाग की ओर से 4 किलोग्राम बीज के मसूर किट वितरित किये। आपने पारम्परिक फसलों के अलावा अच्छी आय के लिये दलहन और तिलहन की फसल भी बोने की सलाह दी।

बिचुपरा में देखी कपास की खेती

बरही क्षेत्र के भ्रमण के दौरान कलेक्टर श्री सिंह ने जिले में नवाचार के रुप में ली जा रही कपास की खेती का भी अवलोकन किया। हरियाणा के किसान राजबीर द्वारा ग्राम बिचपुरा में जमीन खरीदकर लगभग 22 एकड़ में कपास की फसल ली जा रही है। कपास की 007 किस्म लागई है, जो तैयार अवस्था में है। किसान ने बताया कि यहां तैयार हुई कपास की फसल हरियाणा ले जाकर विक्रय करते हैं। कलेक्टर श्री सिंह ने कपास की सिंचाई के लिये ड्रिप सिस्टम अपनाने की सलाह दी।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen − 10 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।