कड़कनाथ के लिये झाबुआ में लगेगी 30 हजार क्षमता की हेचरी मशीन

Share

13 अक्टूबर 2021, भोपाल । कडक़नाथ के लिये झाबुआ में लगेगी 30 हजार क्षमता की हेचरी मशीन – अपर मुख्य सचिव श्री जे.एन. कंसोटिया ने झाबुआ में नव-निर्मित हेचरी भवन का निरीक्षण कर 15 अक्टूबर तक 30 हजार क्षमता की नई हेचरी मशीन लगाने के निर्देश दिये हैं। श्री कंसोटिया ने कहा कि वर्तमान हेचरी मशीन पुरानी होने से पिछले एक वर्ष में चूजा उत्पादन काफी कम हुआ है।

दाना-पानी-बर्तन क्रय अनुमति बढ़ी

श्री कंसोटिया ने लेयर हाउस में कडक़नाथ मुर्गा पालन का भी अवलोकन किया। प्रबंधक ने बताया कि प्रक्षेत्र पर पक्षियों के दाना एवं पानी के बर्तनों की खरीदी के लिये एक हजार की अनुमति अपर्याप्त है। श्री कंसोटिया ने सामग्री क्रय अनुमति 10 हजार रूपये करने के निर्देश संचालक श्री मेहिया को दिये। अपर मुख्य सचिव ने नव-निर्मित हेचरी भवन का अवलोकन कर निर्माण कार्य की अनेक कमियों की ओर इंगित करते हुए इन्हें शीघ्र दूर करने को कहा।

अपर मुख्य सचिव ने मेघनगर के विभिन्न गाँवों में हितग्राहियों के घर पहुँचकर कडक़नाथ चूजा प्रदाय योजना की प्रत्यक्ष जानकारी ली। श्री कंसोटिया को ग्राम गुडा में हितग्राही सुनीता ने बताया कि उन्हें 50 चूूजे मिले हैं, जिनमें से 7 की मृत्यु हो गयी है, लेकिन बाकी सभी स्वस्थ हैं और लगभग 2 माह के हो गये हैं। सुनीता ने कहा कि कडक़नाथ की देशी मुर्गे की तुलना में अधिक माँग और कीमत होने से हमें अच्छी आय हो रही है। नि:शुल्क चूजों के पालन के बाद अधिक लाभ को देखते हुए मैंने कृषि विज्ञान केन्द्र में स्वयं के व्यय पर कडक़नाथ चूजा़ खरीदने के लिये भी राशि जमा कराई है। श्री कंसोटिया ने कहा कि सभी गाँव वालों को जागरूक करें कि वे मवेशियों में आई-टेग जरूर लगवाएँ।

अन्य हितग्राही श्री लालू वीरसिंह के कुक्कुट शेड का भी श्री कंसोटिया ने निरीक्षण किया। वीरसिंह ने बताया कि उन्हें योजना में 50 कडक़नाथ चूजे, 30 किलो कुक्कुट आहार और दाना-पानी के बर्तन नि:शुल्क प्राप्त हुए हैं। इनमें से 44 चूजे स्वस्थ हैं और वृद्धि हो रही है।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.