देश में पोषक अनाजों का उत्पादन 159 लाख टन हो गया

Share

27 जुलाई 2022, नई दिल्ली । देश में पोषक अनाजों का उत्पादन 159 लाख टन हो गया – देश में पोषक अनाजों का उत्पादन तीसरे अग्रिम अनुमान के मुताबिक वर्ष 2021-22 में 159.29 लाख टन हो गया है, जबकि वर्ष 2018-19 में यह केवल 137.11 लाख टन था। देश में पोषक अनाजों का क्षेत्रफल, उत्पादन, उत्पादकता बढ़ाने के लिए कृषि मंत्रालय द्वारा देश के 14 राज्यों के 212 जिलों में एनएफएसएम के तहत पोषक अनाज (मिलेट्स) पर एक मिशन चलाया जा रहा है। यह जानकारी केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने सांसद श्री विष्णु दत्त शर्मा के एक प्रश्न के उत्तर में लोकसभा में दी।

श्री तोमर ने बताया कि अग्रणी मिलेट्स जिसमें ज्वार, बाजरा, रागी प्रमुख है का एमएसपी भी औसत उत्पादन लागत पर कम से कम 50 प्रतिशत न्यूनतम लाभ के साथ रखा गया है। वर्ष 2022-23 के लिए ज्वार हाइब्रिड – रुपये 2970 प्रति क्विंटल, ज्वार (मालदंडी) – रुपये 2990 प्रति क्विंटल, बाजरा – रुपये 2350 प्रति क्विं. एवं रागी – 3578 रुपये प्रति क्विंटल रखा गया है। भारत सरकार ने अप्रैल 2018 में मिलेट्स को पोषक अनाज के रूप में अधिसूचित भी किया है, क्योंकि ये पौष्टिक औषधीय गुणों के साथ कार्बोहाइडे्रट, माइक्रोन्यूट्रीएंट तथा फाइटोकेमेकल्स के अच्छे स्त्रोत हैं।

10 करोड़ से अधिक किसान पा रहे हैं सम्मान निधि

वर्ष 2018-19 में शुरु हुई पीएम किसान सम्मान निधि के लाभाविन्त पात्र किसानों की संख्या बढ़ती जा रही है। योजना का लाभ उन सभी किसानों को दिया जाता है जिनके सही और सत्यापित डेटा राज्य सरकारों द्वारा दिए जाते है। वर्ष 2018-19 में 2 करोड़ 82 लाख से अधिक पात्र किसान थे जो वर्ष 2022-23 में 10 करोड़ 26 लाख 42 हजार हो गए है। जिनको 12 जुलाई तक 21 हजार 924 करोड़ से अधिक की सम्मान निधि दी गई है।

महत्वपूर्ण खबर: सात जिलों में भारी वर्षा की संभावना

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.