राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

भारत में बागवानी उत्पादन में मामूली गिरावट, फलों के उत्पादन में वृद्धि की उम्मीद

Share

05 जून 2024, नई दिल्ली: भारत में बागवानी उत्पादन में मामूली गिरावट, फलों के उत्पादन में वृद्धि की उम्मीद – कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय ने 2023-24 के लिए बागवानी फसलों के क्षेत्र और उत्पादन का दूसरा अग्रिम अनुमान जारी किया है। इस अनुमान के अनुसार, देश में बागवानी उत्पादन 352.23 मिलियन टन रहने का अनुमान है, जो 2022-23 के अंतिम अनुमान से लगभग 32.51 लाख टन (0.91%) कम है।

फलों का उत्पादन: 2023-24 में फलों का उत्पादन 112.63 मिलियन टन तक पहुंचने की उम्मीद है। इसमें केला, नींबू/नींबू, आम, अमरूद और अंगूर के उत्पादन में वृद्धि शामिल है। हालांकि, सेब और अनार का उत्पादन 2022-23 की तुलना में कम होने की संभावना है।

सब्जियों का उत्पादन: सब्जियों का उत्पादन लगभग 204.96 मिलियन टन होने का अनुमान है। लौकी, करेला, पत्ता गोभी, फूलगोभी, कद्दू, टेपिओका, गाजर और टमाटर के उत्पादन में वृद्धि की उम्मीद है, जबकि प्याज, आलू, बैंगन और अन्य सब्जियों के उत्पादन में कमी की संभावना है।

प्याज का उत्पादन:  2023-24 के दूसरे अग्रिम अनुमान के अनुसार, प्याज का उत्पादन 242.12 लाख टन रहने का अनुमान है, जो पिछले साल के 302.08 लाख टन से लगभग 60 लाख टन कम है।

आलू का उत्पादन: देश में आलू का उत्पादन 567.62 लाख टन रहने का अनुमान है, जो बिहार और पश्चिम बंगाल में उत्पादन में कमी के कारण 34 लाख टन कम है।

टमाटर का उत्पादन: टमाटर का उत्पादन 212.38 लाख टन रहने का अनुमान है, जो पिछले साल के 204.25 लाख टन से 3.98% अधिक है।

बागवानी क्षेत्र और उत्पादन:

क्षेत्रफल (मिलियन हेक्टेयर में): 2022-23 में 28.44 मिलियन हेक्टेयर, 2023-24 के पहले अग्रिम अनुमान में 28.77 मिलियन हेक्टेयर और दूसरे अग्रिम अनुमान में 28.63 मिलियन हेक्टेयर।

उत्पादन (मिलियन टन में): 2022-23 में 355.48 मिलियन टन, 2023-24 के पहले अग्रिम अनुमान में 355.25 मिलियन टन और दूसरे अग्रिम अनुमान में 352.23 मिलियन टन।

कृषि मंत्रालय ने कहा है कि बागवानी उत्पादन में यह मामूली गिरावट कुछ फसलों के उत्पादन में कमी के कारण है, जबकि फलों और कुछ सब्जियों के उत्पादन में वृद्धि देखी गई है।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements