राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

खरीफ फसलों की बुआई में उल्लेखनीय बढ़ोतरी: 378 लाख हेक्टेयर पार किया

Share

10 जुलाई 2024, नई दिल्ली: खरीफ फसलों की बुआई में उल्लेखनीय बढ़ोतरी: 378 लाख हेक्टेयर पार किया – कृषि मंत्रालय द्वारा जारी किए गए ताजे आंकड़ों के अनुसार, इस वर्ष 8 जुलाई तक खरीफ फसलों की बुआई ने पिछले साल की तुलना में 14.10% की बढ़ोतरी दर्ज की है। देश भर में खरीफ फसलों का कुल बुआई क्षेत्र 378 लाख हेक्टेयर से भी अधिक हो गया है, जो पिछले साल के 331.9 लाख हेक्टेयर से काफी अधिक है।

दलहनी फसलों में उल्लेखनीय वृद्धि

इस वर्ष दलहन  की बुआई में 50% से अधिक की वृद्धि हुई है। खासतौर पर, अरहर की बुआई में सबसे बड़ी वृद्धि दर्ज की गई, जो 4.09 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 20.82 लाख हेक्टेयर हो गई है। उड़द और मूंग के क्षेत्र में भी उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई है।

तिलहन और कपास की बुआई में भी उछाल

तिलहन फसलों के क्षेत्र में भी इस साल बड़ा उछाल आया है। सोयाबीन की बुआई पिछले साल के 28.86 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 8 जुलाई तक 60.63 लाख हेक्टेयर हो गई है। मूंगफली और सूरजमुखी की बुआई भी संतोषजनक स्तर पर रही है।  इसी प्रकार, कपास की बुआई 80.63 लाख हेक्टेयर तक पहुंच गई है, जो पिछले वर्ष कि इसी अवधि में  62.34 लाख हेक्टेयर से काफी अधिक है।

अन्य फसलों का क्षेत्रफल

चावल, श्रीअन्न सह मोटे अनाज, गन्ना, और जूट एवं रेशे वाली फसलों की बुआई में भी वृद्धि हुई है। विशेषकर चावल की बुआई 59.99 लाख हेक्टेयर तक पहुंच गई है, जो पिछले वर्ष के 50.26 लाख हेक्टेयर से अधिक है।

क्रम सख्या.बोया गया क्षेत्र 8 जुलाई तक
फसलेंवर्तमान वर्ष 2024पिछला वर्ष 2023
1चावल59.9950.26
2दलहन36.8123.78
aअरहर20.824.09
bउड़द 5.373.67
cमूंग8.4911.79
dकुल्थी0.080.07
eअन्य दलहन2.054.15
3श्रीअन्न सह मोटे अनाज58.4882.08
aज्वार3.667.16
bबाजरा11.4143.02
cरागी1.020.94
dछोटा बाजरा1.290.75
eमक्का41.0930.22
4तिलहन80.3151.97
aमूंगफली17.8521.24
bसोयाबीन60.6328.86
cसूरजमुखी0.460.3
dतिल1.041.34
eरामतिल0.190
fअरंड़ी0.10.2
gअन्य तिलहन0.040.04
5गन्ना56.8855.45
6जूट एवं रेशे वाली(मेस्टा) फसलें5.636.02
7कपास80.6362.34
कुल378.72331.9

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements