सतत व स्थायी विकास के लिए प्राकृतिक कृषि जरूरी- उपराष्ट्रपति श्री नायडू

Share

भूमि सुपोषण संकलन का लोकार्पण

3 मई 2022, नई दिल्ली । सतत व स्थायी विकास के लिए प्राकृतिक कृषि जरूरी- उपराष्ट्रपति श्री नायडू – उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने कहा है कि यह समझना होगा कि प्राकृतिक स्रोत जैसे जल, मिट्टी, भूमि अक्षय नहीं हैं, न ही इन्हें फिर से बनाया जा सकता है। मानव का भाग्य और भविष्य प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण पर ही निर्भर है। सतत व स्थायी विकास के लिए प्राकृतिक कृषि जरूरी है।” उपराष्ट्रपति आज यहां अक्षय कृषि परिवार द्वारा भूमि सुपोषण और संरक्षण पर चलाए जा रहे देशव्यापी अभियान पर आधारित पुस्तक “भूमि सुपोषण” का लोकार्पण कर रहे थे। इस अवसर पर, कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकारी और गैर-सरकारी प्रयासों से देश में आर्गेनिक खेती बढ़ रही है, जिसका रकबा 38 लाख हेक्टेयर तक पहुंच चुका है, कृषि निर्यात में भी इन उत्पादों का अधिक योगदान है। इसके साथ ही, केंद्र सरकार प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय प्राकृतिक कृषि पद्धति पर जोर दे रही है। प्राकृतिक खेती को मिशन मोड में बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार पूर्ण प्रवृत्त है।

मुख्य अतिथि उपराष्ट्रपति श्री नायडू ने, देश के एक बड़े भाग में, विशेषकर पश्चिमी और दक्कन के क्षेत्र में मिट्टी के सूखकर रेतीली बनने पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि एक अनुमान के अनुसार प्रति वर्ष प्रति हेक्टेयर 15 टन मिट्टी नष्ट हो रही है। यह आवश्यक है कि भूमि के स्वास्थ्य पर ध्यान देकर उसे पुनः स्वस्थ बनाया जाएं। रासायनिक उर्वरकों व कीटनाशकों के सघन प्रयोग से मिट्टी विषाक्त हो जाती है और उपजाऊ जैविक तत्व समाप्त होते जाते हैं। देशी खाद और कीटनाशक, पारंपरिक पद्धति से कम लागत में ही बनाए जा सकते हैं, जिससे किसानों की आमदनी भी बढ़ेगी।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि मिट्टी की जांच के लिए प्रयोगशालाओं के नेटवर्क का निरंतर विस्तार किया जा रहा है। इस वर्ष के बजट में गंगा नदी के किनारों पर रासायनिक खेती के स्थान पर प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहित करने का प्रावधान किया गया है। पारंपरिक कृषि विकास योजना के तहत प्राकृतिक जैविक खेती की विभिन्न पद्धतियों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। मध्य प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र में जैविक खेती का क्षेत्रफल सर्वाधिक है। केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर ने कहा कि एक कालखंड था, जब देश में खाद्यान्न का संकट था, जिसके चलते रासायनिक खेती के साथ हरित क्रांति हुई लेकिन अब अलग स्थिति है। हमारा देश अधिकांश खाद्यान्न के उत्पादन के मामले में दुनिया में नंबर एक या नंबर दो पर है और कृषि निर्यात भी बढ़ रहा है, जो सालाना 4 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया है।

कार्यक्रम में कनेरी मठ, महाराष्ट्र के श्री कदसिद्धेश्वर स्वामी, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकारिणी सदस्य श्री भागैया, अक्षय कृषि परिवार के अध्यक्ष श्री मनोज सोलंकी व ट्रस्टी और पब्लिकेशन की आयोजन समिति के संयोजक डॉ. गजानन डांगे, कुलपति, कृषि वैज्ञानिक, कृषि संगठनों के प्रतिनिधि व अन्य गणमान्यजन उपस्थित थे। प्रारंभ में श्री सोलंकी ने अतिथियों का स्वागत किया। 

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.