लॉकडाउन में बीज, फ़र्टिलायज़र, फल – सब्ज़ी ट्रांसपोर्ट हेल्प लाईन केन्द्र सरकार ने शुरू किया कॉल सेंटर

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

लॉकडाउन में बीज ,फ़र्टिलायज़र , फल – सब्ज़ी ट्रांसपोर्ट हेल्प लाईन
केन्द्र सरकार ने शुरू किया कॉल सेंटर

नई दिल्ली । केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्री श्री नरेन्‍द्र सिंह तोमर ने कोविड-19 के खतरे के कारण जारी लॉकडाउन की मौजूदा परिस्थिति के दौरान खराब होने वाले उत्‍पादों को एक राज्‍य से दूसरे राज्‍य में भेजने के लिए आज कृषि भवन में अखिल भारतीय कृषि परिवहन कॉल सेंटर लॉन्‍च किया। इस कॉल सेंटर के नम्‍बर 18001804200 और 14488 हैं। इन नम्‍बरों पर दिन या रात को किसी भी समय मोबाइल या लैंडलाइन फोन से कॉल किया जा सकता है।

24×7 सेवा प्रदान करने वाला यह अखिल भारतीय कृषि परिवहन कॉल सेंटर खराब होने वाले सब्जियों और फलों, बीज, कीटनाशक और उवर्रक आदि जैसे कृषि उत्‍पादों को एक स्‍थान से दूसरे स्‍थान पर भेजने के लिए राज्‍यों के बीच अंतर-राज्‍यीय सहयोग के लिए केन्द्रीय कृषि विभाग की एक पहल है।

कृषि, बागवानी या बीज और उर्वरकों के अलावा अन्‍य खराब होने वाली वस्‍तुओं को एक से दूसरे राज्‍य में भेजने में कठिनाइयों का सामना कर रहे ट्रक चालक और सहायक, व्‍यापारी, खुदरा व्‍यापारी, ट्रांसपोर्टर्स, किसान, विनिर्माता या अन्‍य हितधारक इस कॉल सेंटर पर सम्‍पर्क करके मदद मांग सकते हैं। कॉल सेंटर एक्‍जीक्‍यूटिव्‍स राज्‍य सरकार के अधिकारियों को मसलों को सुलझाने में सहायता करने के साथ-साथ वाहनों और खेप के विवरण उपलब्‍ध कराएंगे।

इफ्को किसान संचार लिमिटेड (आईकेएसएल) की ओर से परिचालित इन कॉल सेंटर लाइन्‍स द्वारा शुरूआत में 10 कस्‍टमर्स एक्‍जीक्‍यूटिव्‍स द्वारा चौबीसों घंटे 8-8 घंटे की तीन पालियों में सेवाएं प्रदान की जाएगी। कॉल सेंटर एक्‍जीक्‍यूटिव्‍स हर प्रकार की समस्‍या के निपटान के रिकॉर्ड को बरकरार रखेंगे और उसे सत्‍यापित करेंगे।

अखिल भारतीय कृषि परिवहन कॉल सेंटर के लॉन्‍च के अवसर पर कृषि एवं किसान कल्‍याण राज्‍य मंत्री श्री परुषोत्‍तम रुपाला और श्री कैलाश चौधरी, सचिव (एसी एंड एफडब्‍ल्‍यू) श्री संजय अग्रवाल और मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारी मौजूद थे। यह 24×7 कॉल सेंटर कृषि मंत्रालय द्वारा लॉकडाउन की अवधि के दौरान फील्‍ड स्‍तर पर किसानों और खेतीबाड़ी की गतिविधियों को सुगम बनाने के लिए किए गए विविध उपायों में से एक है।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen + eighteen =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।