भारत के कपास उत्पादक क्षेत्रों को 2040 तक गंभीर जलवायु जोखिमों का सामना करना पड़ेगा

Share

कार्बन उत्सर्जन के दुष्परिणाम

( निमिष गंगराड़े)

2 जुलाई 2021, नई दिल्ली ।  भारत के कपास उत्पादक क्षेत्रों को 2040 तक गंभीर जलवायु जोखिमों का सामना करना पड़ेगा –  वैश्विक कपास उत्पादन के लिए जलवायु जोखिमों के पहली तरह के विश्व स्तरीय  विश्लेषण से पता चलता है कि 2040 तक जलवायु परिवर्तन तापमान वृद्धि, वर्षा के पैटर्न में बदलाव और मौसम की चरम घटनाओं से विश्व में उच्च जोखिम वाली फसल कपास लगाने वाले आधे से अधिक क्षेत्रों पर संकट  भी ला  सकता है।

  • कपास उत्पादन के लिए जलवायु जोखिमों का अपनी तरह का पहला वैश्विक विश्लेषण जिसमें भारत की नगदी फसल कपास से जुड़े आर्थिक-सामाजिक पहलुओं का विश्लेषण भी किया गया है।
  • यदि देश में कार्बन उत्सर्जन अधिक रहता है तो वर्ष 2040 तक, भारत के कपास क्षेत्रों में से एक तिहाई क्षेत्र को अधिक तापमान, पानी की उपलब्धता में परिवर्तन , और मौसम की अत्यधिक अस्थिरताओं  का सामना करना पड़ सकता है ।

विश्लेषण के तहत, जलवायु परिदृश्य की सबसे खराब स्थिति वाली संभावनाओं पर प्रकाश डाला गया है कि कपास उगाने वाले सभी वैश्विक क्षेत्रों में 2040 तक मौसम की कम से कम एक उथल पुथल  से जोखिम बढ़ेगा । हालांकि यह वृद्धि कम  से लेकर बहुत अधिक तक है, दुनिया के कपास उगाने वाले आधे क्षेत्रों को कम से कम एक या बहुत अधिक जोखिम या  भारी परिवर्तन का सामना करना पड़ेगा।

वैश्विक विश्लेषण में भारत के कपास उत्पादन पर प्रमुख निष्कर्ष
  • सभी भारतीय कपास क्षेत्र 2040 तक 40 डिग्री सेल्सियस से ऊपर (हीट स्ट्रेस ) के संपर्क में आ जाएंगे, यह जोखिम सभी कपास उगाने वाले क्षेत्रों में वर्तमान की अपेक्षा  बढ़ जाएगा।
  • कपास  फसल  के मौसम की कम लंबाई – भारत के कपास उगाने वाले लगभग 45% क्षेत्रों में कपास  मौसम की लंबाई में कमी का भी  अनुमान है क्योंकि कपास उगाने के लिए आदर्श  तापमान सीमा से अधिक बढ़ सकता  है।
  • कपास उगाने वाले 50% क्षेत्रों में अत्यधिक वर्षा की घटनाओं में वृद्धि का खतरा ।
  • भारत में  कपास उगाने वाले आधे क्षेत्र 2040 तक लंबे समय तक सूखे से उच्च या बहुत अधिक जोखिम में हैं, जिससे कपास  पर अतिरिक्त दबाव और पैदावार प्रभावित होगी  और संभावित रूप से सामाजिक उथल पुथल  का कारण भी बन सकता है।
  • भारतीय कपास क्षेत्रों में हवा की तेज गति से नुकसान का जोखिम, 30% कपास क्षेत्र को तूफान से एवं  जंगल की आग से सामना करना पड़ सकता  है।
  • लगभग 40% क्षेत्रों में भूस्खलन का खतरा बढ़ गया है, लगभग 35% क्षेत्र बाढ़ से प्रभावित होने का अनुमान है, और भारत के कुछ उत्तर-पश्चिमी क्षेत्रों में तटीय बाढ़ का खतरा भी बढ़ गया है।
जलवायु परिवर्तन के लिए अनुकूलन

वैश्विक कपास उत्पादन के लिए भौतिक जोखिम मूल्यांकन” “Adapting to climate change – physical risk assessment for global cotton production”,शीर्षक से, विश्लेषण को कॉटन 2040 इनिशिएटिव  द्वारा कमीशन किया गया था, जिसे इंटरनेशनल सस्टेनेबिलिटी गैर-लाभकारी फोरम फॉर द फ्यूचर और लॉड्स फाउंडेशन द्वारा सहयोग दिया गया । यह विश्लेषण कॉटन 2040 के पार्टनर और क्लाइमेट-रिस्क स्पेशलिस्ट्स Acclimatise द्वारा किया गया था, जो विलिस टावर्स वॉटसन के क्लाइमेट एंड रेजिलिएशन हब का हिस्सा है।

इस अध्ययन से आगे पता चलता है कि दुनिया के सभी कपास उगाने वाले क्षेत्रों पर सन  2040 तक कम से कम जलवायु के एक खतरे से होने वाला जोखिम मंडराता रहेगा  । पांच अन्य बड़े कपास उत्पादक देश – चीन, अमेरिका, ब्राजील, पाकिस्तान और तुर्की – भी इसी प्रकार के दौर से गुजर सकते हैं । विशेष रूप से जंगल की आग, सूखे और अत्यधिक वर्षा से जलवायु जोखिम में वृद्धि हुई है। दुनिया के दो क्षेत्रों – उत्तरी सूडान और मिस्र सहित उत्तर पश्चिमी अफ्रीका, और पश्चिमी और दक्षिणी एशिया के लिए समग्र रूप से उच्चतम जलवायु जोखिम का अनुमान है ।

फोरम फॉर द फ्यूचर के मुख्य कार्यकारी सैली उरेन ने कहा: गारमेंट इंडस्ट्री  वर्तमान में भारतीय कपास पर अत्यधिक निर्भर है और यह विश्लेषण व्यापक कपास उद्योग के लिए सचेत होने का समय  है। क्षेत्र के जलवायु लचीलेपन के निर्माण के लिए, कपास उत्पादन के स्थायी रूपों में व्यापक बदलाव को कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए , मिलकर व्यापक कार्रवाई की  जाना चाहिए, साथ ही साक्षरता, लिंग, डिजिटल पहुंच और वित्तीय सुविधा जैसे मुद्दों के साथ  सामाजिक-आर्थिक क्षेत्र  में भी निवेश करना चाहिए। ।

एलेस्टेयर बागली, निदेशक, कॉरपोरेट्स – क्लाइमेट एंड रेजिलिएशन हब, विलिस टॉवर वॉटसन के अनुसार : ” भारत सहित अधिकांश देश उत्सर्जन में कमी करने की प्रतिबद्धताओं और लक्ष्यों से दूर  है, जिसका अर्थ है कि इस सदी के अंत तक 3 डिग्री सेल्सियस से अधिक की वार्मिंग संभव है। डीकार्बोनाइजेशन के साथ हम कितने भी सफल हों: हमें  आने वाले दशकों में  अपरिहार्य जलवायु परिवर्तन और उथल पुथल  का सामना करना होगा । यदि हम समाज पर जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभावों  को सीमित करना चाहते हैं तो आज से ही  तैयारी जरूरी  है।”

वैश्विक कपड़ा बाजार में उपयोग किए जाने वाले सभी प्रकार के रॉ मटेरियल में केवल कपास की हिस्सेदारी ही  लगभग 31% है, जो सब मिला कर  600 अरब डॉलर से अधिक है। भारत विश्व स्तर पर सबसे अधिक कपास उगाने वाला  देश है, जिसकी  वैल्यू चैन में  लगभग 6 करोड़  लोग प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से शामिल हैं जिसमें कपास व्यापार और उसके प्रसंस्करण में लगभग 4 से 5 करोड़  लोगों का  रोजगार भी शामिल  है। भारतीय कपास का अधिकांश भाग 1 हेक्टेयर से कम के छोटे खेतों में उगाया जाता है। सीआरवीए अध्ययन भारत के तीन प्रमुख कपास उत्पादक राज्यों महाराष्ट्र, गुजरात और तेलंगाना के 13 जिलों में कपास की खेती और कपास प्रसंस्करण पर केंद्रित है।

इंटरनेशनल कॉटन एडवाइजरी काउंसिल (आईसीएसी) की प्रोजेक्ट कंसल्टेंट संध्या क्रांति ने कहा: जलवायु परिवर्तन का वर्षा आधारित कपास उत्पादन पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है। भारत में बारानी कपास का क्षेत्र दुनिया में सबसे बड़ा है, साथ ही कपास किसानों की संख्या भी अधिक है जो वर्षा आधारित परिस्थितियों में कपास की खेती करते हैं। जलवायु में कोई भी परिवर्तन उनकी आजीविका में बदलाव को प्रभावित करेगा, जिसे भारत झेल  नहीं सकता।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.