कीटनाशकों पर जीएसटी में कटौती से आयातकों को फायदा होगा, सीसीएफआई की चिंता

Share

16 जुलाई 2022, नई दिल्ली: कीटनाशकों पर जीएसटी में कटौती से आयातकों को फायदा होगा, सीसीएफआई की चिंता – क्रॉप केयर फेडरेशन ऑफ इंडिया (सीसीएफआई) जो कि कीटनाशक निर्माताओं, निर्यातकों का प्रतिनिधि संगठन है, का दृढ़ मत है कि कीटनाशकों पर 18% का वर्तमान जीएसटी तार्किक रूप से अच्छा है। यदि इसे घटाकर 5% या शून्य कर दिया जाता है तो भारतीय निर्माताओं को नुकसान होगा क्योंकि सभी कच्चे माल के कंटेनरों, संयंत्रों और मशीनरी पर 18% GST है।

श्री दीपक शाह, अध्यक्ष सीसीएफआई ने आज सुश्री निर्मला सीतारमन, अध्यक्ष जीएसटी परिषद को एक प्रतिवेदन  में कहा, आयात पर निर्भर होने के बजाय “इसका परिणाम उल्टा शुल्क संरचना में होगा” जो उन भारतीय निर्माताओं के लिए हानिकारक होगा जिनके पास स्थानीय स्तर पर गुणवत्ता वाले कीटनाशकों का निर्माण करने की क्षमता है।यह दर जीएसटी के अधीन 90% से अधिक वस्तुओं और सेवाओं को कवर करती है। इसी तरह, वैल्यू चैन  में उद्योग द्वारा बेचे जाने वाले अंतिम उत्पादों और सेवाओं में से लगभग 90% क्रेडिट और इसके उपयोग के संतुलन और निर्बाध प्रवाह प्रदान करने के उद्देश्य से 18% की इस दर पर हैं। यह इनवर्टेड ड्यूटी स्ट्रक्चर  के कारण होने वाली विकृति से भी बचाता है। श्री दीपक शाह के मुताबिक  भारत में निर्मित कीटनाशकों के लिए जीएसटी दरों में कोई बदलाव नहीं होना चाहिए।

आयातित कीटनाशकों पर यदि 5% जीएसटी या उससे कम है, तो उन्हें स्वदेशी निर्माताओं की तुलना में  अलग लाभ होगा। यह कदम ‘मेक इन इंडिया’ के माध्यम से आत्मनिर्भर  भारत की नीति के खिलाफ जाएगा, जिसके परिणामस्वरूप एग्रोकेमिकल्स के आयात में वृद्धि होगी, जो 2021-22 के दौरान मुख्य रूप से चीन, जापान, इज़राइल, थाईलैंड, यूरोप, हांगकांग से 13369 करोड़ रूपये  को छू गया था। कंटेनरों की अनुपलब्धता, टैरिफ दरों में वृद्धि और बंदरगाहों पर भीड़भाड़ के कारण कई शिपमेंट में देरी हुई, जो चालू वित्त वर्ष में अब पूर्ण प्रवाह में आने लगे हैं।

स्वीकार्य गुणवत्ता विनिर्देशों के साथ 130 से अधिक देशों में हमारे 80% कृषि रसायन भारतीय निर्माताओं द्वारा निर्यात किये जाते हैं। वास्तव में, हमारा निर्यात 35000 करोड़ रूपये आंका गया है, जो घरेलू खपत के 29000 करोड़ रूपये  से कहीं  अधिक है।

 “किसी भी कमी या छूट के परिणामस्वरूप सरकार को सालाना 4500 करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान होगा। सीसीएफआई में हम कृषक समुदाय के पक्ष में नीतियों की दिशा में काम करते हैं जहां हमारे संगठन सदस्य उत्पादन की 30-75% कम लागत पर अपने आयातित समकक्षों की तुलना में बेहतर गुणवत्ता का उत्पादन कर सकते हैं और मूल्यवान विदेशी मुद्रा बचा सकते हैं” श्री हरीश मेहता, वरिष्ठ सलाहकार सीसीएफआई ने कहा।

श्री दीपक शाह के मुताबिक भारत में निर्मित कीटनाशकों के लिए जीएसटी दरों में कोई बदलाव नहीं होना चाहिए।

महत्वपूर्ण खबर:  शहडोल, भोपाल, उज्जैन और नर्मदापुरम संभागों में ज़ोरदार बारिश

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.