आईसीएआर ने किसानों-वैज्ञानिकों के सहयोग से खाद्य सुरक्षा में अग्रणी भूमिका निभाई

Share

28 मार्च 2022, नई दिल्ली । आईसीएआर ने किसानों-वैज्ञानिकों के सहयोग से खाद्य सुरक्षा में अग्रणी भूमिका निभाई – भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद सोसायटी की 93वीं वार्षिक आम बैठक (एजीएम) यहां पूसा परिसर में केंद्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर की अध्यक्षता में हुई। बैठक में केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन एवं डेयरी मंत्री श्री परषोत्तम रुपाला, केंद्रीय कृषि राज्‍य मंत्री श्री कैलाश चौधरी, नीति आयोग के सदस्य (कृषि) डा. रमेश चंद तथा डेयर के सचिव व आईसीएआर के महानिदेशक डॉ. त्रिलोचन महापात्र विशेष रूप से उपस्थित थे।

श्री तोमर ने कहा कि किसानों के अथक परिश्रम, वैज्ञानिकों के कुशल अनुसंधान तथा सरकार की किसान हितैषी नीतियों के फलस्वरूप कोविड महामारी के दौरान भी भारतीय कृषि में सतत् वृद्धि बनी रही और कृषि क्षेत्र ने जीडीपी में सकारात्मक योगदान दिया है। श्री तोमर ने कहा कि आईसीएआर को अब अपने शताब्‍दी समारोह (वर्ष 2029 में) के लिए अभी से राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तैयारी शुरू कर देना चाहिए।

बैठक में केंद्रीय मंत्री श्री रूपाला ने कहा कि खेती करने के लिए छोटे किसान अनेक जुगाड़ करते है, जिन्हें मान्यता दी जाना चाहिए। आगामी 3 आयोजन- जी 20 सम्मेलन की मेजबानी, डेयरी का अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम व जामनगर को आयुर्वेद में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिलने के संबंध में आईसीएआर को नजर रखते हुए लाभ लेने के बारे में विचार करना चाहिए।

केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री श्री चौधरी ने कहा कि उद्यानिकी के क्षेत्र में भी और काम करने की काफी गुंजाइश है। ऐसे अनेक पौधे है, जो आयात किए जाते हैं, इनकी किस्में हमारे देश में ही विकसित करने की आवश्यकता है। ने कहा कि वेस्ट टू वैल्थ के तहत उद्यमियों को नई तकनीक उपलब्ध कराने की भी आवश्यकता है।

नीति आयोग के सदस्य डा. रमेश चंद ने कहा कि चालू वित्त वर्ष में भारत का कृषि निर्यात 50 अरब डालर हो गया है। इसमें, एक ही वर्ष में लगभग 22 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। आईसीएआर के महानिदेशक डा. महापात्र ने विस्तृत प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए बताया कि आईसीएआर परिवार ने साल भर में 389 नई किस्में विकसित की है। साथ ही, दलहनी-तिलहनी फसलों पर फोकस किया गया है। आईसीएआर के संस्थानों के नए शोध से देश को खाद्यान्न एवं बागवानी के क्षेत्र में काफी लाभ हुआ है।

बैठक में गुजरात, हिमाचल प्रदेश, अरूणाचल प्रदेश के कृषि मंत्री भी उपस्थित थे। बैठक में सोसायटी के अन्य सदस्‍य, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद की शासी निकाय के सदस्‍य, आईसीएआर के सचिव श्री संजय गर्ग, डेयर के वित्‍तीय सलाहकार श्री संजीव कुमार, अन्य वरिष्ठ अधिकारी व वैज्ञानिक गण उपस्थित थे। बैठक में अतिथि मंत्रियों ने आईसीएआर के प्रकाशनों तथा उत्पादों का विमोचन भी किया।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.