राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

स्मार्ट खेती के लिए ई-क्रॉप: आईओटी पर आधारित नई क्रांति

Share

08 जून 2024, तिरुवनंतपुरम: स्मार्ट खेती के लिए ई-क्रॉप: आईओटी पर आधारित नई क्रांति – आईसीएआर-केंद्रीय कंद फसल अनुसंधान संस्थान (आईसीएआर-सीटीसीआरआई), तिरुवनंतपुरम ने आज तिरुवनंतपुरम में एक आईओटी आधारित सटीक कृषि प्रौद्योगिकी ‘ई-क्रॉप’ लॉन्च की। इस सटीक कृषि प्रौद्योगिकी का सफलतापूर्वक स्थानांतरण तकनीकी लाइसेंसिंग समझौते पर हस्ताक्षर करके मुंबई स्थित टेक विजिट आईटी प्राइवेट लिमिटेड के साथ किया गया, जिसे नई दिल्ली के एग्रीनोवेट इंडिया लिमिटेड द्वारा सुगम बनाया गया। डॉ. जी. बायजू, निदेशक, आईसीएआर-सीटीसीआरआई, तिरुवनंतपुरम ने श्री भारत पाटनी, निदेशक, टेक विजिट आईटी प्राइवेट लिमिटेड के अधिकारियों के साथ तकनीकी लाइसेंसिंग समझौते का आदान-प्रदान किया।

‘ई-क्रॉप डिवाइस

यह प्रौद्योगिकी किसानों को प्राकृतिक संसाधनों का सटीक प्रबंधन करने में मदद करती है, जिसमें मृदा नमी, तापमान और पोषक तत्वों की सामग्री के साथ-साथ मौसम के मापदंडों का सटीक मापन शामिल है। इस प्रणाली के फसल वृद्धि मॉडल समय पर सिंचाई, उर्वरकों के आवेदन और कीट व रोग संक्रमण की पहचान पर सलाह प्रदान करते हैं। पुनर्योजी कृषि के लिए यह पर्यावरण-हितैषी विकल्प इनपुट दक्षता को अधिकतम करता है और बर्बादी को कम करता है। यह प्रौद्योगिकी भारत के $886.21 मिलियन बाजार में एक महत्वपूर्ण हिस्सा रखती है।

एग्रीनोवेट इंडिया के सीईओ डॉ. प्रवीण मलिक ने कहा कि ई-क्रॉप में स्मार्ट खेती क्षेत्र में उच्च संभावनाएं हैं और यह किसानों को पारंपरिक खेती की तुलना में अधिक लाभ प्राप्त करने में मदद कर सकता है।

तकनीकी लाइसेंसिंग समझौते के आदान-प्रदान के दौरान, डॉ. जी. बायजू ने जोर दिया कि विश्व पर्यावरण दिवस पर ई-क्रॉप को लाइसेंसिंग करना आईसीएआर-सीटीसीआरआई के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। इस प्रौद्योगिकी के आविष्कारक और प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. वी.एस. संतोश मित्रा ने इस “किसान-हितैषी” प्रौद्योगिकी की प्रमुख विशेषताओं को समझाया। आईसीएआर-सीटीसीआरआई के संस्थान प्रौद्योगिकी प्रबंधन इकाई ने इस लाइसेंसिंग प्रक्रिया का प्रबंधन एग्रीनोवेट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली के माध्यम से किया।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements