आज का कपास मंडी रेट (17 मार्च 2023 के अनुसार)

Share

17 मार्च 2023, नई दिल्ली: आज का कपास मंडी रेट (17 मार्च 2023 के अनुसार) – नीचे दी गई तालिका में पूरे भारत में कपास की मंडी दरें हैं। इसमें कपास की न्यूनतम, अधिकतम और मोडल दर का उल्लेख है |

मध्य भारत में सबसे ज्यादा रेट मध्य प्रदेश की झाबुआ मंडी में था। अधिकतम रेट 8100/- रु./क्विं. था और मंडी में कुल 58.36 टन आवक थी। नीचे भारत की मंडियों की पूरी सूची और उसके साथ दरें दी गई हैं।

देश की प्रमुख मंडियों में कपास के मंडी रेट और आवक (17 मार्च 2023 के अनुसार)
गुजरात मंडी आवक (टन में)न्यूनतम रेट (रु./क्विं.)अधिकतम रेट (रु./क्विं.)मोडल रेट (रु./क्विं.)
बागसरा8.9645079207185
चोटिला50770083508050
हलवाद63.6650076957500
हिम्मतनगर19.8700578557430
राजकोट190725080507900
सावरकुंडला12.6655577057130
तलोद2.3767577257700
थारा23750077507625
कर्नाटक मंडी आवक (टन में)न्यूनतम रेट (रु./क्विं.)अधिकतम रेट (रु./क्विं.)मोडल रेट (रु./क्विं.)
हावेरी4669982007170
रायचुर1670077007200
मध्य प्रदेश मंडी आवक (टन में)न्यूनतम रेट (रु./क्विं.)अधिकतम रेट (रु./क्विं.)मोडल रेट (रु./क्विं.)
बड़वाह47.5719076007480
झाबुआ58.36720081007650
महाराष्ट्र मंडी आवक (टन में)न्यूनतम रेट (रु./क्विं.)अधिकतम रेट (रु./क्विं.)मोडल रेट (रु./क्विं.)
हिमायत नगर2710072007150
जलगांव310740078407750
उमरेड17766077307680
यवल16732077507530
पंजाब मंडी आवक (टन में)न्यूनतम रेट (रु./क्विं.)अधिकतम रेट (रु./क्विं.)मोडल रेट (रु./क्विं.)
मलाउट36.8739575657550
राजस्थान मंडी आवक (टन में)न्यूनतम रेट (रु./क्विं.)अधिकतम रेट (रु./क्विं.)मोडल रेट (रु./क्विं.)
बिजय नगर3.6670077507450
तमिलनाडु मंडी आवक (टन में)न्यूनतम रेट (रु./क्विं.)अधिकतम रेट (रु./क्विं.)मोडल रेट (रु./क्विं.)
कोंगनापुरम0.01650075007000
तेलंगाना मंडी आवक (टन में)न्यूनतम रेट (रु./क्विं.)अधिकतम रेट (रु./क्विं.)मोडल रेट (रु./क्विं.)
आदिलाबाद513.22640673807380
अमंगल608700070007000
चरला2.5820084008300
इन्द्रवेली(उत्नूर)11.2704573007300
जैनूर5.5730074007350
करीमनगर10.6685070257015
खम्मम25560072007000
मदनूर0.01754075407540
आज का कपास मंडी रेट (17 मार्च 2023 के अनुसार)

महत्वपूर्ण खबर: कपास मंडी रेट (15 मार्च 2023 के अनुसार) 

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *