कम्पनी समाचार (Industry News)

डॉ. भाग्यश्री को आधुनिक पुष्पकृषि में उत्कृष्ट योगदान के लिए वसंतराव नाईक पुरस्कार

Share

05 जुलाई 2024, मुंबई: डॉ. भाग्यश्री को आधुनिक पुष्पकृषि में उत्कृष्ट योगदान के लिए वसंतराव नाईक पुरस्कार – महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. वसंतराव नाईक की 111वीं जयंती के अवसर पर, राइज एन शाइन बायोटेक, पुणे की प्रबंध निदेशक डॉ. भाग्यश्री प्रसाद पाटिल को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री एकनाथ शिंदे द्वारा प्रतिष्ठित ‘वसंतराव नाईक पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार उन्हें आधुनिक पुष्पकृषि में उनके अद्वितीय योगदान के लिए दिया गया।

इस सम्मान समारोह में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री एकनाथ शिंदे, कृषि मंत्री श्री धनंजय मुंडे, और महात्मा फुले कृषि विद्यापीठ के कुलपति डॉ. प्रशांतकुमार गुलाबराव पाटिल सहित कई गणमान्य अतिथियों की उपस्थिति रही। वसंतराव नाईक कृषि अनुसंधान और ग्रामीण विकास फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ. राजेंद्र बारवाले ने सभी अतिथियों का स्वागत किया । यह आयोजन यशवंतराव चव्हाण केंद्र, मुंबई में हुआ।

मुख्यमंत्री श्री एकनाथ शिंदे ने अपने संबोधन में कहा, “डॉ. भाग्यश्री पाटिल के प्रयोगात्मक और नवाचारी विचारों ने महाराष्ट्र के किसानों को नई दिशा दी है। ” महाराष्ट्र के कृषि मंत्री श्री धनंजय मुंडे ने भी इस अवसर पर कहा, “डॉ. पाटिल की आधुनिक और नवाचारी विधियों के कारण पुष्पकृषि के क्षेत्र में प्रगति हुई है। उनका योगदान किसानों और आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणादायक है।”

डॉ. डी. वाय. पाटिल विद्यापीठ, पिंपरी, पुणे की प्रो-चांसलर डॉ. भाग्यश्री पाटिल ने पुरस्कार प्राप्त करने के बाद अपनी खुशी व्यक्त करते हुए कहा, “यह कृषि पुरस्कार मेरे लिए पूर्व मुख्यमंत्री स्व. वसंतराव नाईक का आशीर्वाद है, जिन्होंने अपने जीवन को किसानों और कृषि क्षेत्र की भलाई के लिए समर्पित कर दिया। “

डॉ. भाग्यश्री पाटिल ने तकनीक आधारित आधुनिक कृषि और अनुसंधान को बढ़ावा देने के उद्देश्य से राइज एन शाइन बायोटेक प्रा. लि. की स्थापना की। इस कंपनी के माध्यम से उन्होंने किसान  कल्याण में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उनके कार्यों से प्रेरित होकर किसान आधुनिक खेती के तरीकों को अपना रहे हैं।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements