कम्पनी समाचार (Industry News)

स्वराज इनोवेशन अवॉर्ड्स के विजेता हुए पुरस्कृत

Share

नई दिल्ली। महिंद्रा ग्रुप की एक इकाई स्वराज ट्रैक्टर्स ने गत दिनों नई दिल्ली में आयोजित कृषि कॉन्क्लेव में स्वराज इनोवेशन अवॉर्ड्स 2020 के विजेताओं को पुरस्कृत किया। इस पुरस्कार समारोह के मुख्य अतिथि केंद्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर थे। कृषि कॉन्क्लेव में कृषि क्षेत्र के विशेषज्ञों ने अपने विचार प्रकट किए। इस आयोजन में म.प्र. के कृषि मंत्री श्री सचिन यादव ने भी शिरकत की।
भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् और कृषि/किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित यह एक दिवसीय कृषि कॉन्क्लेव कृषि के माध्यम से भारतीय अर्थव्यवस्था में बदलाव विषय पर केंद्रित था। मुख्य अतिथि श्री तोमर ने कहा कि न तो किसान बेचारे हैं और न ही कृषि बेचारी है। जीडीपी में कृषि के योगदान को तकनीक के प्रयोग से बढ़ाया जा सकता है। आपने किसानों के कल्याण के लिए स्वराज ट्रैक्टर्स के योगदान की प्रशंसा की। म.प्र. के कृषि मंत्री श्री सचिन यादव ने कहा कि किसानों की आय बढ़ाने के साथ-साथ जलवायु परिवर्तन एक अहम मुद्दा है। रसायनिक उर्वरकों एवं कीटनाशकों के प्रयोग से जहरीली हो रही खेती का असर लोगों की सेहत पर पड़ रहा है, इसलिए म.प्र. के किसानों को जैविक खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। हरियाणा के कृषि मंत्री श्री जयप्रकाश दयाल ने भी सम्बोधित किया।
स्वराज डिवीजन के सीईओ श्री हरीश चव्हाण ने कहा कि यह पुरस्कार कृषि क्षेत्र में लोगों और संगठनों द्वारा दिए गए योगदान और हासिल की गई उपलब्धियों को पहचानने के साथ ही उन्हें साझा करने का अवसर प्रदान करता है। स्वराज के सेल्स एवं मार्केटिंग प्रमुख श्री राजीव लल्लन ने कहा कि किसानों की आय बढ़ाने के लिए लागत कम करना बहुत जरुरी है। स्वराज किसानों की जरूरतों के हिसाब से ट्रैक्टर बना रहा है। इनके सहित कृषि क्षेत्र के गणमान्य, सरकारी अधिकारी और विशेषज्ञों वसुधा मिश्रा, श्री विजय सरदाना, डॉ. त्रिलोचन महापात्रा, श्री संजय छाबड़ा, श्री वीएम सिंह, श्री राकेश टिकैत ने पैनल चर्चा और तकनीकी सत्रों में शामिल होकर अपने विचार प्रकट किए।
उल्लेखनीय है कि स्वराज इनोवेशन अवॉर्ड्स सात श्रेणियों में निम्नांकितों को प्रदान किया गया। बेस्ट केवीके फॉर इनोवेशन – श्री रामकृष्ण मिशन केवीके रांची झारखंड और केवीके मुरैना म.प्र., एग्रीकल्चर साइंटिस्ट फॉर आउट स्टैंडिंग कंट्रीब्यूशन – डॉ. ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह, डायरेक्टर इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ व्हीट एंड बार्ली रिसर्च, करनाल और डॉ. बख्शीराम, डायरेक्टर आईसीएआर सुगरकेन ब्रीडिंग इंस्टीट्यूट, कोयंबटूर, इनोवेटिव फार्मिंग प्रेक्टिसेस -(महिला)- मुकेश देवी, बिरहोर झज्जर, हरियाणा और (पुरुष)-अब्दुल हादी खान, बखरिया सीतापुर उ.प्र, बेस्ट परफार्मिंग स्टेट – मेघालय और उत्तराखंड, बेस्ट फार्मर्स को-ऑपरेटिव – नेशनल को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन ऑफ़ इंडिया लि. आनंद, छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ लि . और मल्कानूर सहकारी क्रेडिट एंड मार्केटिंग सोसायटी लि. तेलंगाना, बेस्ट एफपीओ -राम रहीम प्रगति प्रोड्यूसर्स कम्पनी लि. देवास म.प्र. और वेल्लियांगिरी उझावन प्रोड्यूसर्स कम्पनी लि.और बेस्ट एग्रीकल्चर टेक्नोलॉजी स्टार्टअप – एग्रीकल्चर नेक्स्ट को दिया गया।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *