इन्सेक्टिसाइड्स इंडिया ने तीन नए उत्पाद लांच किए

Share

30 अप्रैल 2022, इंदौर । इन्सेक्टिसाइड्स इंडिया ने तीन नए उत्पाद लांच किए –भारत की प्रमुख फसल सुरक्षा कंपनियों में से एक  इन्सेक्टिसाइड्स इंडिया लि. (आईआईएल) ने गत दिनों इंदौर में निसान केमिकल कार्पोरेशन के तकनीकी सहयोग से अंतर्राष्ट्रीय कीटनाशक शिनवा, फफूंदीनाशक इजुकी के साथ ही भारत में निर्मित मक्का के लिए प्रभावी खरपतवार नियंत्रक टोरी को भी लांच किया। इस मौके पर इन्सेक्टिसाइड्स इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री राजेश अग्रवाल, वाइस प्रेसिडेंट श्री एम. के. सिंघल और मार्केटिंग मैनेजर श्री शिशिर चंद्र उपस्थित थे।

श्री राजेश अग्रवाल ने तीनों उत्पादों की लॉन्चिंग के मौके पर कहा कि निसान के दो उत्पादों शिनवा और इजुकी को लांच करते हुए खुशी हो रही है, जो हमारी कम्पनी की प्रतिबद्धता को दर्शाते हैं।  इसके साथ ही आईआईएल द्वारा निर्मित उत्पाद टोरी को भी लांच कर रहे हैं। निसान से हमारी साझेदारी 2012 में आरम्भ हुई थी और हमने अब तक पल्सर, हाकामा, कुनौची और हाचीमैन नाम के 4 उत्पाद लांच किए हैं।  आज हमने दो उत्पाद और लांच करके अपनी साझेदारी में एक नया आयाम जोड़ा है। श्री अग्रवाल ने अपनी कम्पनी के 5 वर्षीय दृष्टिकोण पर प्रकाश डालते हुए कहा कि मैक इन इंडिया के तहत तकनीकी क्षमता को 50 प्रतिशत बढ़ाएंगे, ताकि नई तकनीक किसानों को उपलब्ध हो।  अब तक 125  करोड़ रु का निर्यात किया जा चुका है। मप्र के लिए 125 करोड़ रु का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

म.प्र. के बाजारों में अच्छा रिस्पॉन्स

वहीं श्री एम. के. सिंघल ने कहा कि आईआईएल द्वारा लांच किए गए उत्पादों को मप्र के बाजारों में अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। इसमें खरपतवारनाशक हाचीमैन प्रमुख है। इन्हें  लघु/सीमांत कृषकों तक पहुँचाने में हमारी टीम ने बहुत मेहनत की है। टोरी को भी मप्र में अच्छा प्रतिसाद मिलेगा और आज लांच हुए तीनों उत्पादों से किसान लाभान्वित होंगे। उल्लेखनीय है कि अंतर्राष्ट्रीय कीटनाशक शिनवा विभिन्न  फ़सलों में थ्रिप्स और इल्ली का प्रभावी नियंत्रण करता है, जो बैंगन, भिंडी, मिर्च, टमाटर और अरहर फसल में इस्तेमाल किया जा सकता है। वहीं इजुकी रोग निरोधी आधुनिक फफूंदीनाशक है, जो धान में आने वाले ब्लास्ट और शीथ ब्लाइट जैसी बीमारियों से बचाता है, जबकि टोरी एक बहुआयामी मक्का खरपतवारनाशक है, जो फसल में संकरी और चौड़ी पत्ती वाले खरपतवारों को नियंत्रित करने में असरदार है। टोरी का टेक्निकल और फार्मुलेशन भारत में आईआईएल ने किया है।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.