नाथ सीड्स की कपास किस्मों पर किसानों के अनुभव

Share

4 जून 2022, इंदौर । नाथ सीड्स की कपास किस्मों पर किसानों के अनुभव देश की प्रसिद्ध बीज कम्पनी नाथ सीड्स प्रा लि के बीज किसानों में बहुत लोकप्रिय है। कपास की अलग-अलग किस्मों को लगाने के बाद किसानों को कपास का बेहतर उत्पादन मिला है। ऐसे दो किसानों ने अपने अनुभव साझा किए और इस वर्ष भी खरीफ में इसी कम्पनी का कपास बीज पुन: लगाने का वादा किया।

महाराणा ने दिलाया 14 क्विंटल का उत्पादन

Dinesh--Bhuriya1

ग्राम रोटला जिला झाबुआ के किसान श्री दिनेश भूरिया ने बताया कि बीज कम्पनी नाथ सीड्स की कपास किस्म महाराणा का एक पैकेट गत वर्ष लगाया था। कपास की महाराणा किस्म के डेंडु भी ज़्यादा आते हैं और इनका वजन भी अधिक रहता है। इस कारण कपास की चुनाई में बहुत आसानी हो जाती है। इसी कारण मुझे 14 क्विंटल का उत्पादन प्राप्त हुआ । खास बात यह है कि इस किस्म में बीमारियां भी कम लगती है। इस कारण दवाइयों पर किये जाने वाला खर्च कम हो जाता है। लागत कम होने और उत्पादन अधिक होने से मुनाफ़ा अच्छा हो जाता है। मैं इस किस्म से पूरी तरह संतुष्ट हूँ। इस वर्ष भी यही किस्म लगाऊंगा। अन्य किसान भी इस किस्म को लगाएं और अच्छा उत्पादन पाएं।
सम्पर्क – 9617803854

कपास की जम्बो किस्म से मिला जम्बो उत्पादन :

Schin-Shrikhande2

ग्राम हिवरी तहसील सौंसर जिला छिंदवाड़ा के किसान श्री सचिन श्रीखंडे ने बताया कि एक साल पूर्व नाथ सीड्स द्वारा हमारे गांव में कपास बीज की किस्म जम्बो 303 बीजी-2 का प्रदर्शन किया गया था, जिससे प्रेरित होकर मैंने गत वर्ष में दो एकड़ में इस किस्म को लगाया था। इस किस्म में न केवल डेंडु ज़्यादा लगते हैं,बल्कि शाखाएं भी अधिक लगती है। तना मजबूत होने से पौधा गिरता नहीं है। बड़े आकार के डेंडु होने से यह अच्छे खुलते हैं और इन्हें चुनने में आसानी भी होती है। इसी कारण मुझे 13 क्विंटल का उत्पादन मिला। दूसरी बात यह कि यह किस्म रस चूसक कीटों के प्रति सहनशील होने से इसमें रोग भी कम लगते हैं। इससे लागत में भी कमी आती है और उत्पादन भी बढिय़ा मिलता है। पिछले अनुभवों को देखकर इस वर्ष फिर से नाथ सीड्स की जम्बो 303 बीजी-2 किस्म ही 10 एकड़ में लगाऊंगा। अन्य किसान भाइयों से भी से भी कहूंगा कि एक बार जम्बो 303 बीजी-2 लगाएं और कपास का जम्बो उत्पादन पाएं। सम्पर्क – 6260517221

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.