कम्पनी समाचार (Industry News)

बेस्ट एग्रोलाइफ को हर्बीसाइड टेक्निकल साएहेलोफौप ब्यूटाइल के लिए पंजीकरण मिला

Share

18 जनवरी 2023, नई दिल्ली: बेस्ट एग्रोलाइफ को हर्बीसाइड टेक्निकल साएहेलोफौप ब्यूटाइल के लिए पंजीकरण मिला – बेस्ट एग्रोलाइफ लिमिटेड को केंद्रीय कीटनाशक बोर्ड (CIB&RC)से साएहेलोफौप-ब्यूटाइल (Cyhalofop-butyl)  के  निर्माण के लिए पंजीकरण प्राप्त हुआ है। यह साएहेलोफौप ब्यूटाइल पोस्ट-इमर्जेंस शाकनाशी (हर्बीसाइड) है, जो चावल की फसलों में घास – खरपतवारों की बढ़वार को रोकता है।
 
साएहेलोफौप ब्यूटाइल के साथ, संगठन ने यह भी घोषणा की, कि उन्हें प्रोपेक्विज़ाफॉप (Propaquizafop) टेक्निकल के स्वदेशी निर्माण के लिए पंजीकरण प्राप्त हुआ है, जो एक अन्य महत्वपूर्ण पोस्ट-इमर्जेंस हर्बिसाइड है। खरपतवारों के इस तरह के स्वदेशी निर्माण से नुकसान को कम करके भारत में चावल के उत्पादन में काफी हद तक मदद मिल सकती है। प्रोपेक्विज़ाफॉप का अनुमानित बाजार भारत में 350 करोड़ का है और वैश्विक साएहेलोफौप ब्यूटाइल का बाजार आने वाले वर्षों में 132.48 मिलियन अमरिकी डॉलर तक पहुंचने की संभावना है।
 
बेस्ट एग्रोलाइफ लिमिटेड (बीएएल) के प्रबंध निदेशक विमल अलावधी ने कहा, कि “भारत चावल का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है, और हमारे देश में लगभग 44 मिलियन हेक्टेयर में इसकी खेती की जाती है”। परन्तु  भारत में चावल उत्पादन में खरपतवारों की अधिकता  के कारण 15 मिलियन टन से अधिक का हर साल  नुकसान होता है।
 
उन्होंने आगे बताया, “चावल के बागानों में खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए एक पोस्ट-इमर्जेंस, हर्बिसाइड साएहेलोफौप ब्यूटाइल का उपयोग किया जाता है। ये शाकनाशी खरपतवारों की वृद्धि को तुरंत रोक देते हैं, इस प्रकार फसल के नुकसान को कम करते हैं और अधिक  उत्पादन भी दिलाते  हैं।”

महत्वपूर्ण खबर: गेहूँ मंडी रेट (17 जनवरी 2023 के अनुसार)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *