बेलारूस और भारत का संयुक्त उपक्रम – गोमसेलमॉश

Share this

बेलारूस और भारत का संयुक्त उपक्रम – गोमसेलमॉश

अत्याधुनिक कृषि यंत्रों की विशाल श्रृंखला

भोपाल। बेलारूस और भारत का संयुक्त उपक्रम – गोमसेलमॉशआधुनिक खेती में कृषि यंत्रों का महत्व अत्यधिक बढ़ गया है। ऐसे में किसानों को आवश्यकता है अंतर्राष्ट्रीय तकनीक के आधुनिक कृषि यंत्रों की। भारतीय किसानों की इसी आवश्यकता को समझते हुए भारतीय कंपनी इरिषा एग्रीटेक प्राइवेट लि. ने बेलारूस की अंतर्राष्ट्रीय कंपनी गोमसेलमॉश के साथ सयुंक्त उपक्रम स्थापित किया। वर्ष 2017 में इस सयुंक्त उपक्रम का भारत में प्रवेश हुआ।

यह जानकारी देते हुए कंपनी के रीजनल हेड (एम पी – सी जी) श्री आशीष पटेल ने बताया की अंतराष्ट्रीय स्तर पर गोमसेलमॉश कृषि यंत्रों के सबसे बड़े निर्माताओं में से एक है। इन यंत्रों में ट्रेक्टर, हार्वेस्टर प्रमुख है। गोमसेलमॉश इंडिया प्राइवेट लि. की स्थापना का उद्देश्य है कि अंतर्राष्ट्रीय तकनीक के कृषि यंत्रों का निर्माण, विक्रय और विक्रय पश्चात सेवा भारत में ही उपलब्ध कराई जा सके।

कंपनी ने अन्य कई अंतर्राष्ट्रीय ब्रांड जैसे एग्रोमॉस, सेलिकल, कॉंसिलाज के साथ भी गठबंधन किया है। श्री पटेल ने बताया कि कंपनी के पास कृषि यंत्रों की विशाल श्रृंखला है। जिनमें ग्रेन हार्वेस्टर , 88 से 530 एच पी तक सेल्फ प्रोपेल्ड ट्रैक टाइप और व्हील बैस टाइप दोनों मॉडल है। इनके अलावा मेज़ कंबाइन हार्वेस्टर, कॉटन कंबाइन हार्वेस्टर, पोटेटो कंबाइन हार्वेस्टर, फॉरेज़ हार्वेस्टर , ट्रैक्टर, पावर टिलर, रीपर बाइंडर, हे बेलर, साइलेज बेलर, फीडर मिक्सर , रिवर्सिबल प्लाऊ, सीड ड्रिल, रोटावेटर, लेजर गाइडेड लेवलर, हैरो, कल्टीवेटर, राइस ट्रांस्प्लान्टर, आदि उपलब्ध है। श्री पटेल का कहना है की कंपनी किसान को बोनी से लेकर कटाई तक और कटाई उपरांत भी कृषि कार्य में लगने वाले हर तरह के कृषि यंत्र उपलब्ध करा रही है।

Share this
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + eleven =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।