सब्जी बीजों का व्यवसाय शुरू करें

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
  • डॉ.रवीन्द्र पस्तोर, आईएएस

pastor1

29 अप्रैल 2021, भोपाल । सब्जी बीजों का व्यवसाय शुरू करें – भारत विश्व में चीन  के पश्चात् सब्ज़ियों की खेती करने में दूसरा स्थान रखता हैं। यहाँ विश्व की 15 % सब्ज़ियों  का उत्पादन किया जाता है। हमारे यहाँ प्रति वर्ष लगभग 212 मिलियन टन सब्ज़ियों का उत्पादन लगभग 11 मिलियन हेक्टेयर में किया जाता है। सब्ज़ियों को उगाने के लिए हर बार बीज बाज़ार से क्रय करना होते है। हमारे देश में सब्ज़ियों के बीज का प्रति वर्ष रू 1500 करोड़ का व्यवसाय किया जाता है।

हमारे देश में उत्तर प्रदेश 16%, पश्चिमी बंगाल 15%, मध्यप्रदेश 10%, विहार 9%,
गुजरात 7%, महाराष्ट्र 7%, कर्नाटक 5%, उड़ीसा 5%, छत्तीसगढ़ 4% तथा तमिलनाडु
4% प्रमुख उत्पादक राज्य है।

भारत में कुल 28 तरह की सब्ज़ियों की खेती करने में 526 क़िस्मों के बीजों का उपयोग किया जाता है। इन में 309 OP क़िस्म, 163 हाईब्रिड तथा 54 मिश्रित क़िस्म के बीजों का व्यवसाय किया जाता है। मुख्य फसलों में टमाटर, चेरी टमाटर, बैंगन , मिर्च, शिमला मिर्च, मटर, बीन, ओकरा, प्याज़, लहसुन, फूल गोभी, पत्तागोभी,
गाजर, मूली, तरबूज़, ख़रबूज़, करेला, कद्दू, ककड़ी, गिलकी, तुरई, लौकी, पेठा
कद्दू, पालक, बथुआ, मैथी आदि है।

भारत में वर्तमान में 136 से अधिक कम्पनियों सब्ज़ियों के बीज तैयार कर व्यवसाय कर रही है। इनमें विदेशी कम्पनियाँ जैसे बायर, अडवांटा, ईस्ट वेस्ट, एच एम क्लाउस, सिंजेंटा, सेमिनिस , देशी कम्पनियों में महिको, नुज़ीविडू, रासी, जे के, कलश, कावेरी, कृभको, कृषिधन, जेनटेकस, अजीत, नामधारी, नाथ, बायोजीन, वीएनआर, अंकुर, इंडो अमरीकन, एनएससी आदि प्रमुख है।

ई-फसल कम्पनी हमारे देश में सब्ज़ियों के बीज वितरण का काम कर रही है। जिसमें क्वालटी के बीज उचित मूल्य पर उपलब्ध करने में ई-फसल कम्पनी को महारत हासिल है।

जो लोग इस क्षेत्र में काम कर रहे हैं या अपना नया काम शुरू करना चाहते हैं या किसानी कर रहे हैं तो उनको बिज़नेस बड़ा एवं खड़ा करने में सम्पूर्ण जानकारी दी जाती हैं तथा हैन्डहोल्ड सहयोग किया जा रहा है।

सब्ज़ियों के बीज का व्यवसाय करने के लिए कोई डिग्री की आवश्यकता नहीं है। यह व्यवसाय बहुत छोटे स्केल पर शुरू किया जा सकता है। बहुत बड़ी पूँजी की आवश्यकता नहीं होती हैं।

फल एवं सब्ज़ियों का कुल उत्पादन अब अनाज के कुल उत्पादन से अधिक हो गया है और यह प्रति वर्ष बहुत तेज़ी से बढ़ रहा है। करोना के कारण जिन लोगों को अपना रोज़गार शहर में छोड़ कर गाँव में रहना पड़ रहा है उनके लिए यह बहुत अच्छा व्यवसाय हो सकता है।

….तो इन्तज़ार किस बात का आज ही शुरूआत करे।

 

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *