सोयाबीन को सूखे से बचाने के लिए किसान ये करें

Share
  • भा.कृ.अनु.परिषद, भारतीय सोयाबीन
    अनुसन्धान संस्थान, इंदौर
19 जुलाई 2021, सोयाबीन को सूखे से बचाने के लिए किसान ये करें –
  • कई क्षेत्रों में बोवनी के बाद विगत कुछ दिनों से वर्षा के अभाव में सोयाबीन की फसल प्रभावित हुई है। ऐसी स्थिति में फसल को सूखे से बचाने के लिए सलाह है कि निराई-गुड़ाई, डोरा-कुल्पा चलायें या पुरानी फसल के अवशेषों (गेहूँ /चना का भूसा ञ्च 2.5 टन/हे. ) से पलवार लगाएं। साथ ही यह भी सलाह है कि सुविधानुसार भूमि में दरारें पडऩे से पहले ही फसल की सिंचाई करें या अनुशंसित एन्टीट्रांस्पिरेन्ट जैसे पोटेशियम नाइट्रेट (1%) या मेग्नेशियम कार्बोनेट अथवा ग्लिसरॉल (5%) का छिडक़ाव करें।
  • सूखे की स्थिति में लोह तत्व की अनुपलब्धता के कारण सोयाबीन की ऊपरी पत्तियां पीली होने (पत्तियों की शिराएँ हरी रहते हुए पीलापन) के समाचार है। ऐसी स्थिति में सूचित किया जाता है कि पर्याप्त वर्षा होने पर फसल का पीलापन अपने आप समाप्त हो जायेगा। समय का इंतज़ार करें।
  • उत्पादन की दृष्टि से सोयाबीन की बोवनी हेतु जुलाई के प्रथम सप्ताह तक का समय अनुकूल होता है। अत: जिन क्षेत्रों में अभी तक सोयाबीन की बोवनी नहीं हुई है, वहाँ पर्याप्त वर्षा होने पर शीघ्र पकने वाली सोयाबीन की किस्मों को 30 सेमी कतारों की दूरी पर 25 प्रतिशत बीज दर बढ़ाकर बोवनी करें या कम समयावधि वाली किसी अन्य उपयुक्त फसल की बोवनी करें।
  • सोयाबीन फसल को प्रारंभिक 45 दिन तक खरपतवार मुक्त रखना अत्यंत आवश्यक है। अत: कृषकगण अपनी सुविधा अनुसार खरपतवार नियंत्रण की विभिन्न अनुशंसित विधियों (डोरा/कुलपा/हाथ से निंदाई/ रासायनिक खरपतवारनाशक) में से किसी एक का प्रयोग करें। सोयाबीन फसल के लिए अनुशंसित खरपतवारनाशकों की सूची नीचे दी गई है ।
  • जिन कृषकों ने बोवनी पूर्व या बोवनी के तुरंत बाद उपयोगी खरपतवारनाशक का छिडक़ाव किया है, वे 20-30 दिन की फसल होने पर डोरा/कुलपा चलाएं।
  • जिन किसानों ने सोयाबीन की बोवनी के तुरंत बाद उपयोगी खरपतवारनाशक (जैसे डायक्लोसुलम,सल्फेंट्राजोन/पेंडिमेथालिन आदि) का प्रयोग नहीं किया हो, ऐसे कृषकों को सलाह है कि पर्णभक्षी इल्लियों से सुरक्षा हेतु फूल आने से 4-5 दिन पहले अपनी फसल पर क्लोरइंट्रानिलिप्रोल 18.5 एस.सी. (150 मिली./हे.) का छिडक़ाव करें। इससे अगले 25-30 दिनों तक इल्लियों से सुरक्षा मिलेगी।
  • खरपतवार नाशक एवं कीटनाशक के अलग-अलग छिडक़ाव में होने वाले व्यय को कम करने एवं एक साथ उपयोग करने हेतु उनकी संगतता बाबत किए गए अनुसन्धान परीक्षणों के आधार पर सोयाबीन में निम्न कीटनाशकों एवं खरपतवार नाशकों को मिलाकर छिडक़ाव किया जा सकता है- क्लोरइंट्रानिलिप्रोल 18.5 एस.सी. (150 मिली./हे.) या इन्डोक्साकार्ब 15.8 ई.सी. (333 मिली/हे.) या क्विनाल्फोस 25 ई.सी. (1500 मिली/हे.) के साथ अनुशंसित खरपतवारनाशक जैसे इमज़ेथापायर 10 एस.एल. (1 ली./हे.) या क्विज़लोफोप इथाइल 5 ई.सी. (1 ली./हे.)।
  • जैविक सोयाबीन उत्पादन में रूचि रखने वाले कृषकगण पत्ती खाने वाली इल्लियों (सेमीलूपर, तम्बाखू की इल्ली) की छोटी अवस्था की रोकथाम हेतु बेसिलस थुरिन्जिएन्सिस अथवा ब्यूवेरिया बेसिआना (1.0 ली./हेक्टे.) का प्रयोग कर सकते है।
    द्य सोयाबीन की फसल में तम्बाखू की इल्ली एवं चने की इल्ली के प्रबंधन के लिए बाजार में उपलब्ध कीट-विशेष फेरोमोन ट्रैप्स एवं वायरस आधारित एन.पी.वी. (250 एल.ई./हेक्टे.) का उपयोग करें।
  • यह भी सलाह है कि सोयाबीन की फसल में पक्षियों की बैठने हेतु ञ्ज आकार के बर्ड-पर्चेस लगाएं। इससे कीट-भक्षी पक्षियों द्वारा भी इल्लियों की संख्या कम करने में सहायता मिलती है।
  • महाराष्ट्र एवं मध्य प्रदेश के कुछ जिलों में सोयाबीन की फसल पर सोयाबीन मोज़ेक वायरस व पीला मोज़ेक वायरस के लक्षण देखे गए हैं। अत: सलाह है कि तत्काल रोगग्रस्त पौधों को खेत से उखाडक़र निष्कासित करें तथा इन रोगों को फ़ैलाने वाले वाहक जैसे एफिड एवं सफ़ेद मक्खी की रोकथाम हेतु पूर्वमिश्रित कीटनाशक थायोमिथोक्सम +लैम्ब्डा सायहेलोथ्रिन (125 मिली/हे.) या बीटासायफ्लुथ्रिन+इमिडाक्लोप्रिड (350 मिली./हे.) का छिडक़ाव करें। इनके छिडक़ाव से तना मक्खी का भी नियंत्रण किया जा सकता है। यह भी सलाह है कि ‘सफ़ेद मक्खी’ या एफिड के नियंत्रण हेतु कृषकगण अपने खेत में विभिन्न स्थानों पर पीला स्टिकी ट्रैप लगाएं।
Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *