आर्थिक स्थिति में सुधार लाने वाली कुक्कुटपालन की दो योजनाएं

Share

8 दिसम्बर 2021, इंदौर । आर्थिक स्थिति में सुधार लाने वाली कुक्कुटपालन की दो योजनाएं – पशुपालन विभाग मप्र के द्वारा उन्नत पशुपालन आजीविका का बेहतर साधन के अंतर्गत कई योजनाएं संचालित की जाती हैं। जिनमें कुक्कुटपालन भी है। इसका उद्देश्य कुक्कुटपालन के माध्यम से हितग्राहियों की आर्थिक स्थिति में सुधार, कडक़नाथ नस्ल के संरक्षण एवं संवर्धन करना है। उप संचालक, पशु चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं इंदौर से प्राप्त जानकारी के अनुसार इन दिनों जारी इन दोनों योजनाओं रंगीन चूजों की बैकयार्ड और कडक़नाथ कुक्कुट इकाई वितरण की जानकारी दी जा रही है, जो सभी वर्गों के लिए है।

40 रंगीन चूजों की बैकयार्ड इकाई 

यह योजना सामान्य, अजा और अजजा सभी वर्ग के लिए है। इस योजना की इकाई लागत 2225 रुपए है। जिसमें बिना लिंग भेद के 28 दिवसीय 40 रंगीन चूजों का मूल्य प्रति इकाई (प्रति चूजा 45 रु) की दर से कुल 1800 रु, औषधि/टीकाकरण रु 5 प्रति चूजा कुल 200 और परिवहन (चिक बॉक्स सहित) 225 रु कुल 2225 रुपए है। इसमें हितग्राही का अंशदान 25% रहेगा और सरकारी अनुदान 75% रहेगा।

कड़कनाथ कुक्कुट इकाई 

यह योजना भी सामान्य, अजा और अजजा सभी वर्ग के लिए है। इसकी इकाई लगत 4400 रुपए है। इसमें भी बिना लिंग भेद के 28 दिवसीय 40 चूजे, खाद्यान्न, औषधि और परिवहन का प्रावधान है। जिसमें प्रति चूजा 65 रुपए की दर से 40 चूजों की लागत 2600 रु,औषधि/टीकाकरण (दर 5 रु प्रति चूजा) कुल 200 रु परिवहन (चिक बॉक्स सहित) 210 रु कुक्कुट आहार 48 ग्राम प्रति पक्षी, प्रति दिन, 30 दिवस हेतु कुल आहार 58 किलो, 24 रुपए प्रति किलो कुल 1390 रुपए कुल 4400 रुपए है। इसमें भी हितग्राही का अंशदान 25% रहेगा और सरकारी अनुदान 75% रहेगा।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *