एग्रीकल्चर मशीन (Agriculture Machinery)

आयातित मशीनों, अक्षम सब्सिडी तंत्र, सीमित डिमांड सप्लाई की चुनौतियों से जूझ रहा भारत का फार्म मशीनरी उद्योग

Share

22 फरवरी 2023, पुणे: आयातित मशीनों, अक्षम सब्सिडी तंत्र, सीमित डिमांड सप्लाई की चुनौतियों से जूझ रहा भारत का फार्म मशीनरी उद्योग – कृषि मशीनरी उद्योग से असंख्य हितधारक जुड़े हुए हैं। हमारे पास कृषि यंत्र निर्माता बड़ी संख्या में हैं परन्तु बड़ी कम्पनियां बाजार पर हावी हैं। दूसरी ओर, हमारे पास छोटे और सीमांत किसान हैं जो उत्पादों का उपभोग करते हैं। समस्या यह है कि उपकरणों को किराए पर लेने वाले छोटे एवं सीमांत किसानों और बाजार का विस्तार करने के इच्छुक कम्पनियों की आकांक्षाओं के बीच मेल नहीं है। जबकि भारत ने ट्रैक्टरों के उत्पादन और निर्यात में अच्छा प्रदर्शन किया है, लेकिन गैर-ट्रैक्टर कृषि मशीनरी के लिए बाजार आपूर्ति और मांग दोनों ही दृष्टियों से काफी सीमित है। चुनौती यह है कि बाजार का विस्तार कैसे किया जाए।

भारत को गैर-ट्रैक्टर कृषि मशीनरी के लिए स्वयं को उत्पादन और निर्यात केंद्र में बदलने के लिए अगले 15 वर्षों के लिए दूरदर्शी सोच की आवश्यकता है। नीतियां ऐसी होनी चाहिए जिनसे वर्तमान चुनौतियां हल हो सकें। साथ ही यह दुनिया भर के सभी प्रकार के किसानों की आवश्यकताओं को पूरा करने वाले उपकरणों की रेंज का उत्पादन करके भारत के बढ़ते कृषि मशीनरी बाजार को लाभपूर्ण बनाने के लिए उत्प्रेरक का कार्य कर सके।

ये तथ्य एलसीएईआर की हालिया रिपोर्ट में प्रकाश में आए हैं। नेशनल काउंसिल ऑफ एप्लाइड इकॉनमिक रिसर्च (एनसीएईआर) भारत का एक प्रमुख आर्थिक नीति अनुसंधान विचार मंच है। केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री, शोभा करंदलाजे ने गत 7 फरवरी को कृषि भवन में ‘मेकिंग इंडिय अ ग्लोबल पावरहाउस ऑन फार्म मशीनरी इंडस्ट्री पर एनसीएईआर की नवीनतम रिपोर्ट जारी की थी।

एनसीएईआर ने गैर-ट्रैक्टर कृषि मशीनरी उद्योग का मांग और आपूर्ति पक्ष दोनों ही दृष्टिकोणों से विश्लेषण किया है, इस क्षेत्र से जुड़ी चुनौतियों को सामने लाया है, और अपनी रिपोर्ट में वैश्विक कार्य पद्धतियों को बेंचमार्क मानकर उपायों और सुधारों की संस्तुति की है।

चुनौतियों से जूझ रहा फार्म मशीनरी क्षेत्र

एएमएमए-भारत के चेयरपर्सन, श्री मितुल पांचाल ने कहा, ‘हम रिपोर्ट के निष्कर्षों का स्वागत करते हैं। कुछ सिफारिशें फार्म मशीनरी उद्योग की लंबे समय से चली आ रही आवश्यकता रही हैं। यह उद्योग आज सस्ती आयातित मशीन, स्किल मेन पावर की उपलब्धता, अक्षम सब्सिडी तंत्र और अपर्याप्त शिक्षा-उद्योग सहयोग के साथ प्रतिस्पर्धा करने में बड़ी चुनौतियों का सामना कर रहा है। इस रिपोर्ट की सिफारिशें फार्म मशीनरी क्षेत्र में बहुत जरूरी नीतिगत सुधारों के लिए काफी मददगार साबित होंगी ।

भारतीय कृषि में ट्रैक्टरों का वर्चस्व

एनसीएईआर के प्रोफेसर और रिपोर्ट के प्रमुख सह-लेखक, डॉ. बोर्नाली भंडारी ने कहा कि ‘भारतीय कृषि मशीनरी क्षेत्र में ट्रैक्टरों का वर्चस्व है। गैर-ट्रैक्टर कृषि मशीनरी क्षेत्र, उसके आकार नवाचार और कीमतों के मामले में अप्रतिस्पर्धी हो गया है। संगठित कृषि मशीनरी क्षेत्र द्वारा किए जाने वाले उत्पादन और छोटे एवं सीमांत भारतीय किसानों की जरूरतों के बीच बेमेल है। गैर-ट्रैक्टर कृषि मशीनरी को वैश्विक हब के रूप में विकसित करने के लिए मांग और आपूर्ति दोनों पक्षों पर श्रृंखलाबद्ध हस्तक्षेपों द्वारा इन विसंगतियों को हल किए जाने की आवश्यकता है।

बाजार की मांग पक्ष से जुड़ी चुनौतियों को सुसंगत सब्सिडी नीति और उसके कार्यान्वयन, छोटे एवं सीमांत किसानों को दीर्घकालिक ऋण और विस्तार कार्यक्रमों को मजबूत करके हल किए जाने की आवश्यकता है।

दुनिया का कृषि मशीनरी उत्पादन केंद्र बनने के लिए भारत को गैर-ट्रैक्टर कृषि मशीनरी में अनुसंधान एवं विकास को बढ़ावा देकर, व्यापार को अधिक आसान बनाकर, निर्यात एवं एफडीआई को प्रोत्साहन देकर, आयातित कृषि मशीनरी पर निर्भरता कम करके, गुणवत्ता में सुधार एवं इसे बनाए रख कर और कुशल श्रमिकों की कमी को दूर करके सप्लाई चैन की चुनौतियों को हल किया जा सकता है।

महत्वपूर्ण खबर: गेहूँ मंडी रेट (20 फरवरी 2023 के अनुसार) 

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *