वेस्टर्न एग्री सीड्स का बीजी-2

Share this

इंदौर। वेस्टर्न एग्री सीड्स संकर कपास किस्म वेस्टर्न निरोगी 108 (बीजी-2) मध्यप्रदेश के किसानों द्वारा पसंद की जा रही है इस किस्म की अवधि 160 से 170 दिन की ये फसल में कली 35 से 40 दिन में बन जाती है और फूल 55 से 60 दिन में आ जाता है।
किफायती और निरोगी
निरोगी-108 किस्म में दूसरी किस्मों की तुलना में दवाई, खाद का खर्च कम होता है। पौधे का छत्र चारों और फैलता है और इसकी बढ़वार नीचे से ऊपर तक होती है। अन्य किस्मों की तुलना में वेस्टर्न निरोगी 108 बीजी2 में 3 गुना ज्यादा घेंटे लगते हैं। परंतु ज्यादा उत्पादन लेने के लिए पौधों के बीच की दूरी कम से कम 3 फीट रहना चाहिए।
भरपूर उपज
14 से 18 क्विंटल प्रति एकड़ उपज देने वाली यह वेस्टर्न निरोगी किस्म सिंचित और असिंचित, दोनों भूमि में लगाई जा सकती है। मध्यम अवधि की इस किस्म को वर्षा आश्रित क्षेत्र में भी भरपूर प्रतिसाद मिला है।
चुनाई लागत में कमी
वेस्टर्न निरोगी 108 की चुनाई करने में आसानी होने से किसानों को लागत कम आती है।
ध्यान दें: उपरोक्त दूरी रखने पर 160 से 200 घेंटे लगे थे। इसलिये अन्य प्रजाति की तुलना में अधिक उत्पादन लेने के लिये पौधे से पौधे की दूरी 3 फीट से कम नहीं होनी चाहिए।
अधिक चुनाई होने के कारण किसानों को मजदूरी का खर्चा कम पड़ता है। आसानी से चुनाई होने से मजदूर भी खुश रहते हैं। कपास के रेशे 30 से 31 सेंटीमीटर के मध्यम लम्बे रहते हैं। रेशे मजबूत होते हैं।
कीटों से सुरक्षा
इस प्रजाति में रस चूसक कीटों का प्रकोप बहुत कम होता है। इस कारण इसमें कीटनाशकों का कम उपयोग करना पड़ता है जिससे कीटनाशकों की मात्रा कम लगती है। मात्रात्मक खर्च और कम छिड़काव के कारण मजदूरी का खर्च दोनों कम लगता है। यह प्रजाति घेटे को हानि पहुंचाने वाली अधिकतर इल्लियों के प्रति प्रतिरोधी है।
उपज
औसत उपज क्षमता 14 से 18 क्विंटल प्रति एकड़ है। तुलनात्मक रूप से 15 से 20 प्रतिशत उत्पादन अधिक मिलता है। कई जगह पर उत्पादन 40 प्रतिशत से भी अधिक मिला है।

 
मृदा/मिट्टी का प्रकार
सिंचित   कतार से कतार पौधे से पौधे की दूरी
मध्यम काली 4 से 5 फीट  3 से 4 फीट
गहरी काली,भारी 5 से 6 फीट 4 से 5 फीट
अंसिंचित
मध्यम काली 3 से 4 फीट  2.5 से 3 फीट
गहरी काली,भारी 4 से 5 फीट 3 से 4 फीट

 

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।