खेती में टपक सिंचाई की उपयोगिता

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

उद्यानिकी विभाग द्वारा टपक सिंचाई पद्धति को प्रोत्साहित किया जा रहा है । यह पद्धति खेती को लाभ का सौदा बनाने की दिशा में कारगर सिद्ध हो रही है । बड़ी संख्या में किसान इसके फायदों को देखते हुए इसे अपना रहे हैं । इसके माध्यम से कम खर्च में किसानों को दो से ढाई गुना तक उत्पादन मिल रहा है। इस पद्धति से सिंचाई करने वाले किसानों की तकदीर ही बदल गई है।

टपक सिंचाई, अधिक प्रभावी और कम खर्चीली है, यदि जड़ क्षेत्र के नीचे पानी या पोषक तत्वों को खोए बिना बड़ी मात्रा में मिट्टी को प्रत्येक उत्सर्जन के साथ गीला किया जा सकता है। एक टपक लाइन से पानी की दूरी क्षैतिज फैलती है और गीली मिट्टी की मात्रा कारक को सीमित करती है जो टपक लाइनों और उत्सर्जक की संख्या, सिंचाई की आवृत्ति निर्धारित करती है, औेर इस तरह सिंचाई की लागत कम खर्चीली है।

इस पद्धति से 40-50 प्रतिशत तक पानी की बचत होती है । इसके साथ ही खरपतवार निकालने में मजदूरी खर्च में 60 प्रतिशत की कमी और रसायनिक उर्वरकों पर 40 प्रतिशत खर्च की बचत हुई है उल्लेखनीय है कि टपक सिंचाई पद्धति में वेन्चुरी के माध्यम से कम मात्रा में उर्वरक लगता है। पानी में घुलने के कारण पौधे पोषक तत्व आसानी से ग्रहण कर लेते हैं।
फसल बड़े आकार में तथा उत्तम गुणवत्ता वाली होती है। फसलों में बीमारी भी कम लगती है। सेहतमंद पौधों से उत्पादन अच्छा होता है। टपक सिंचाई पद्धति को अपनाकर किसान मालामाल हो गए हैं । कम भूमि मे कम लागत और अधिक उत्पादन के कारण किसान इस पद्धति की ओर आकर्षित हुए हैं। जहां अधिक उत्पादन मिल रहा है, वहीं फसल में बीमारी भी कम लगती है। उत्पादन और ज्यादा हो जाता है। सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि सिंचाई के लिए अत्यन्त कम मात्रा में पानी की आवश्यकता होती है।
टपक सिंचाई के लाभ:-

  • उपलब्ध पानी का अधिकतम उपयोग।
  • जंगली घास के लिए कोई पानी उपलब्ध नहीं है।
  • अधिकतम फसल उपज।
  • उर्वरकों के उपयोग में उच्च दक्षता।
  • कम घास का विकास और संभावित मेजबानों की आबादी को प्रतिबंधित करता है।
  • कम श्रम और अपेक्षाकृत कम परिचालन लागत ।
  • कोई मिट्टी का क्षरण नहीं।
  • कम सेवन की मिट्टी में बेहतर घुसपैठ।
  • परिष्कृत स्वचालित नियंत्रण के लिए तैयार समायोजन।
  • उर्वरकों के भूजल में कोई पानी नहीं।
  • सतह सिंचाई की तुलना में पानी की कम वाष्पीकरण हानि।
  • बीज अंकुरण में सुधार।
  • जुताई के संचालन में कमी।
टपक सिंचाई के नुकसान:
इस तथ्य के बावजूद की टपक सिंचाई के पास इतने सारे संभावित लाभ है, ये एक निश्चित सीमा भी है, जैसा कि अनुपालन किया गया है:-

  • जाम संवेदनशीलता
  • नमी वितरण समस्या
  • लवणता के खतरे
  • कुंड की तुलना में उच्च लागत
  • डिजाइन, स्थापन और संचालन
    के लिए कौशल की आवश्यकता

 

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eight + 6 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।