सोनालीका द्वारा ट्रैक्टर के बेहतर प्रयोग का देशव्यापी प्रशिक्षण

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

नईदिल्ली। देश की सबसे नई और तीसरी सबसे बड़ी ट्रैक्टर निर्माता सोनालीका आईटीएल ने अब तक पूरे देश में 30 कौशल विकास केंद्रों की स्थापना की है जिनमें 2,200 से अधिक लोगों को प्रशिक्षित किया जा चुका है। इनमें से 5 कौशल विकास केंद्र मध्य प्रदेश में सिवनी, धार, शिवपुरी, होशंगाबाद और खण्डवा जिलों में काम कर रहे हैं। सोनालीका इसी क्रम में मध्य प्रदेश राज्य सरकार के सहयोग से इंदौर में एक और कौशल विकास केंद्र की शुरूआत करने जा रही है। नईदिल्ली। देश की सबसे नई और तीसरी सबसे बड़ी ट्रैक्टर निर्माता सोनालीका आईटीएल ने अब तक पूरे देश में 30 कौशल विकास केंद्रों की स्थापना की है जिनमें 2,200 से अधिक लोगों को प्रशिक्षित किया जा चुका है। इनमें से 5 कौशल विकास केंद्र मध्य प्रदेश में सिवनी, धार, शिवपुरी, होशंगाबाद और खण्डवा जिलों में काम कर रहे हैं। सोनालीका इसी क्रम में मध्य प्रदेश राज्य सरकार के सहयोग से इंदौर में एक और कौशल विकास केंद्र की शुरूआत करने जा रही है। सोनालीका आईटीएल के कार्यकारी निदेशक श्री रमन मित्तल के अनुसार, ‘मध्य प्रदेश हमारे लिए एक प्रमुख बाजार है जहां से हमें अपने उत्पादों के लिए शानदार प्रतिक्रिया मिली है। हमें खुशी है  कि मध्य प्रदेश सरकार ने हमारी मेहनत की सराहना की और किसानों को प्रशिक्षित करने के अपने प्रयासों की शुरूआत करने के लिए हमें चुना है। कौशल विकास केंद्र के माध्यम से सोनालीका और सरकार किसानों को उनके खेतों और उपकरणों का इस्तेमाल बेहतर ढंग से करने में मदद करेंगे और कृषि उद्योग के संपूर्ण विकास के लिए काम करेंगे। कृषि अभियांत्रिकी विभाग मध्य प्रदेश सरकार और इंटरनेशनल ट्रैक्टर्स लिमिटेड के बीच हुए समझौते के मुताबिक कंपनी किसानों को कृषि तकनीकों और ट्रैक्टर के प्रयोग को बेहतर ढंग से लागू करने के लिए प्रशिक्षित करेगी। कंपनी किसानों को प्रशिक्षण देने के लिए जरूरी उपकरण भी मुहैया कराएगी और 45 दिनों का कोर्स पूरा करने के बाद प्रमाण-पत्र भी मुहैया कराएगी।

म. प्र. सरकार से किया गठजोड़

  • देश में 30 कौशल विकास केंद्रों की स्थापना
  • मध्य प्रदेश मे 5 कौशल विकास केंद्र कार्यरत
  • 2,200 से अधिक लोग प्रशिक्षित
व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × four =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।