धनिये की फसल में भभूतिया रोग तथा सफेद रतुआ की रोकथाम के लिये क्या उपाय अपनायें।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

समाधान

  • भभूतिया रोग की रोकथाम के लिए स्यूडोमोनास फ्लोरिसेन्स (पी.एफ-2) के 2 ग्राम प्रति लीटर पानी के घोल या डाइनेफेप 2 मि.ली. प्रति लीटर या घुलनशील गंधक 2 ग्राम प्रति लीटर पानी के मान से छिड़काव करें।
  • सफेद रतुआ रोग जिससे धनिया के दानों में विक्रांति आकर वह लम्बे हो जाते है के लिए डाइथेन जेड-78 के 2 ग्राम प्रति लीटर पानी के घोल का छिड़काव करें।
  • एक हेक्टर में 500 लीटर घोल छिड़कें तथा 15 दिन के अंतर से दोहराये।
  • अगले वर्ष फसल लगाते समय बीज को स्यूडोमोनास फ्लोरिसेन्स 10 ग्राम/किलो बीज तथा ट्राइकोडर्मा 5 ग्राम प्रति किलो बीज की दर से उपचारित कर बोये।

– राम सोबनेर, सीहोर

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 − 9 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।