राज्य कृषि समाचार (State News)

बुरहानपुर जिले की महिलाएं सिख रही हैं उत्पाद तैयार करने के गुर

Share

28 मई 2024, बुरहानपुर: बुरहानपुर जिले की महिलाएं सिख रही हैं उत्पाद तैयार करने के गुर – स्व सहायता समूहों की दीदियां  आत्म-निर्भरता की ओर बढ़ रही है। वे अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के साथ-साथ अपने कौशल को भी निखार रही है।  महिलाएं   जिले की मुख्य फसल केले के रेशे को विविंग मशीन के माध्यम से बुनाई कर आकर्षक टोकरियाँ, हैण्ड बैग, पर्स, बोतल बैग, चटाई आदि तैयार कर रही है। इसके साथ ही उन्हें सिलाई एवं पेटिंग का प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है।केले के रेशे से बने उत्पादों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से जिला प्रशासन लगातार प्रयासरत है।

इसी कड़ी में कलेक्टर सुश्री भव्या मित्तल के निर्देशानुसार ‘एक जिला-एक उत्पाद ‘ के तहत मध्य प्रदेश डे-राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन एवं जिला पुरातत्व पर्यटन संस्कृति समिति के सहयोग से केले के रेशे से विभिन्न प्रकार के उत्पाद तैयार करने हेतु स्व सहायता समूहों के  सदस्यों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है।जिला परियोजना प्रबंधक एनआरएलएम  श्रीमती  संतमति  खलखो ने जानकारी देते हुए बताया कि, बार-बास्केट प्रशिक्षण ग्राम बोहरडा स्थित सामुदायिक प्रशिक्षण भवन मोहना संगम में दिया जा रहा है। वहीं पंचायत भवन दर्यापुर में डिजाईन एण्ड डेवलपमेंट, सेटअप एण्ड मेंटनेंस विविंग मशीन, स्टीचिंग के संबंध में प्रशिक्षण आयोजित है।

प्रशिक्षण में स्व सहायता समूह की महिलाओं को मलीमा संस्थान तमिलनाडु की मास्टर ट्रेनर  नित्या द्वारा उत्पादों को तैयार करने हेतु बारीकियां बताई जा रही है। यह प्रशिक्षण 24 मई से दिया जा रहा है। जिसमें 39 से अधिक   महिलाएं   प्रशिक्षण प्राप्त कर रही है।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements