राज्य कृषि समाचार (State News)

जबलपुर जिले में कृषि में ड्रोन का इस्तेमाल बढ़ा

Share
शहपुरा के पिपरिया कला में किया गया फसलों पर जैविक दवाओं का छिडक़ाव

30 मई 2023, जबलपुर (कृषक जगत) । जबलपुर जिले में कृषि में ड्रोन का इस्तेमाल बढ़ा  आज जब हर क्षेत्र में आधुनिक तकनीक का समावेश हो रहा है, ऐसे में कृषि क्षेत्र में भी फसलों में कीटनाशक दवा व जैविक दवाओं के उपयोग के लिए ड्रोन तकनीक का चलन बढ़ता जा रहा है। जबलपुर जिले के शहपुरा विकासखंड के ग्राम पिपरिया कला में गतदिनों कृषि विज्ञान केंद्र एवं कृषि विभाग जबलपुर के तत्वाधान में ड्रोन से मूँग एवं उड़द की फसलों पर कीटनाशक दवा, हारमोंस और जैविक फफूंद नाशक दवा का छिडक़ाव किया गया।

अनुविभागीय अधिकारी कृषि इंदिरा त्रिपाठी, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी शहपुरा पीके श्रीवास्तव, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी श्रीकांत यादव एवं श्री रजनीश दुबे ने कृषि विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. नितिन सिंघल एवं डॉ. ए. के. सिंह के साथ जाकर खेतों में ड्रोन से दवाओं का छिडक़ाव करवाया। एग्रो बायोटेक कंपनी हरियाणा के ड्रोन पायलट रवि एवं आशीष द्वारा इस प्रदर्शन का संचालन किया। खेतों में स्यूडोमोनास एवं बेवेरिया जैविक कीटनाशक का छिडक़ाव किया। ग्राम के कृषक राम सिंह पटेल, मुल्लू सिंह एवं अन्य चार पांच कृषकों के खेतों पर लगभग 15 से 20 एकड़ क्षेत्र में ड्रोन द्वारा सफल छिडक़ाव किया गया।

ड्रोन छिडक़ाव के फायदे

ड्रोन से दवा छिडक़ाव के कई फायदे होते हैं, जैसे कि कम समय का लगना, कम लागत आना एवं दवा का पूरा-पूरा प्रभाव फसल के पौधों पर पडऩा। एक एकड़ की फसल पर दवा के छिडक़ाव में मात्र 10 से 15 मिनट का समय लगता है एवं ड्रोन ऑपरेटर हवा की गति एवं मौसम के अनुसार छिडक़ाव करते हैं।

कृषि अधिकारियों ने बताया कि आगामी समय में ड्रोन अधिक मात्रा में उपलब्ध होंगे जो कि किसान पहले से बुक करवा कर अपने खेतों में दवा का छिडक़ाव करवा सकते हैं।

Share
Advertisements