सुमिटोमो का किसान सम्मेलन संपन्न

Share

9 अगस्त 2022, इंदौर ।  सुमिटोमो का किसान सम्मेलन संपन्न  प्रसिद्ध कम्पनी सुमिटोमो केमिकल इण्डिया लि. द्वारा किसानों को समृद्ध बनाने हेतु गत दिनों ग्राम खड़ी हाट, तहसील आष्टा जिला सीहोर में किसान सम्मेलन का आयोजन किया गया। जिसके विशेष अतिथि कंपनी के वॉइस प्रेसीडेंट श्री कल्पेश पटेल, मुख्य अतिथि नेशनल सेल्स मैनेजर श्री प्रभाकर चौधरी, जोनल मैनेजर श्री बसंत गौर, रीजनल फील्ड मार्केटिंग मैनेजर श्री भगवान वर्मा सहित ग्राम टिटोड़ीया और कानियाखेड़ी के 150 से अधिक किसान सम्मिलित हुए।

श्री पटेल ने एक नवीनतम बहुआयामी, बहुफसलीय उत्पाद कोरको के बारे में बताया कि यह एक बेहतरीन अण्डानाशी, फसलों की सभी इल्लियों के सही ही साथ रसचूसक कीटों के लिए एक उत्तम एवं लम्बी अवधि का नियंत्रक है। अन्य उत्पाद कोरको में एक अनूठी टांसलेमिनार प्रक्रिया होने से ये कीटों को पत्तियों की निचली सतह में पहुंच कर मार गिराता है। यह सवाल कानियाखेड़ी के श्री गजराज सिंह ठाकुर ने पूछा था। वहीं खड़ी हाट के किसान श्री बाबूलाल वर्मा के रिंग कटर संबंधी सवाल पर श्री पटेल ने थायोसेल 300 मिली प्रति एकड़ शुरुआती अवस्था में स्प्रे करने की सलाह दी।

श्री चौधरी ने सोयाबीन की फसल में पिछले कई वर्षों से उपज एवं उसकी गुणवत्ता में गिरावट आने संबंधी किसानों के सवाल का जवाब देते हुए बताया कि सोयाबीन फसल में कई प्रकार रोगों का प्रकोप देखा गया है, जिससे फसल समय से पहले ही पक जाती है, इस समस्या हेतु किसान भाई कम्पनी उत्पाद सुमिटोमो का स्वाधीन का इस्तेमाल फूल से लेकर फली में दाने बनने तक दो बार स्प्रे करें।

श्री गौर ने सुमिटोमो के उत्पाद सेलक्विन को एक बहु उपयोगी व भरोसेमंद उत्पाद बताते हुए ग्राम टीटोडिया के किसान श्री अनिल वर्मा को जवाब दिया कि सोयाबीन की शुरूआती अवस्था में आने वाले सभी कीटों जैसे -कामलिया कीट, सेमिलूपर, ब्लू बीटल, तना मक्खी एवं गार्डल बीटल्स के नर और मादा पर बहुत अच्छा व लम्बे समय तक प्रभावी नियंत्रण कर कीटों से संपूर्ण सुरक्षा प्रदान करता है। इस उत्पाद की गुणवत्ता को देखते हुए राष्ट्रीय सोयाबीन अनुसंधान द्वारा इसे अनुमोदित किया है।

श्री वर्मा ने कहा कि सेलक्रोन एक ऐसा कीटनाशक है, जो अपनी असरदार ट्रांसलेमिनार प्रक्रिया द्वारा इल्लियों जैसे (घोड़ी वाली इल्ली , काली इल्ली, हरी इल्लियों एवं रिंग कटर आदि) को अंडे के अंदर ही मार देता है। यदि कोई अंडा बच जाता है, तो उससे निकलने वाली नवजात इल्ली की स्पर्शीय एवं उदरीय प्रक्रिया द्वारा नष्ट कर फसल को लम्बा एवं सम्पूर्ण सुरक्षा प्रदान करता है। अत: सोयाबीन में पहला स्प्रे सेलक्रोन का अवश्य करें। श्री वर्मा ने विद्युत उत्पाद के बारे में कहा कि यह एक नवीनतम ,अत्याधुनिक एवं उत्कृष्ट फसल ऊर्जा चैनेलाइजर उत्पाद है। जो फसल में वनस्पति अवस्था से प्रजनन अवस्था तक में लगने वाली ऊर्जा देता है। जिससे शाखाएं और फूल ज्यादा निकलते हैं।

महत्वपूर्ण खबर: सोयाबीन मंडी रेट (09 अगस्त 2022 के अनुसार)

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.