कृषि उपज का मूल्य संवर्धन एवं ब्रांडिंग की आवश्यकता

Share

26 दिसम्बर 2022, भोपाल । कृषि उपज का मूल्य संवर्धन एवं ब्रांडिंग की आवश्यकता केन्द्रीय कृषि अभियांत्रिकी संस्थान, भोपाल द्वारा राष्ट्रीय कार्यशाला का आयोजन ‘लघु एवं सीमांत कृषकों हेतु कृषि व्यवसाय में कृषि उपज के प्रसंस्करण, भंडारण, मूल्यसंवर्धन एवं विपणन में नवीन विकास’ विषय पर किया गया। केन्द्रीय कृषि अभियांत्रिकी संस्थान का मुख्य उद्देश्य यांत्रिक शक्ति स्रोतों का उपयोग करके उत्पादन और उत्पादनोपरांत कृषि के आधुनिकीकरण के लिए उपयुक्त मशीनरी और विभिन्न प्रक्रियाओं का विकास करके ग्रामीण क्षेत्र में रोजगार सृजित करना है।

कार्यक्रम का उद्घाटन डॉ. एस. एन. झा, उपमहानिदेशक (अभियांत्रिकी), भाकृअनुप, नई दिल्ली द्वारा किया गया। उन्होंने लघु एवं सीमांत कृषकों हेतु कृषि व्यवसाय के अवसरों की ग्रामीण परिसर में नवीन प्रौद्यौगिकी एवं परंपरागत कृषि आधारित समन्वय की व्यापक सम्भावनाओं का उल्लेख किया। श्री सी.एम. ठाकुर, आईएएस, सदस्य सचिव, म.प्र., प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने  कृषि व्यवसाय में उपज के प्रसंस्करण, मूल्य संवर्धन एवं ब्रांडिंग द्वारा विपणन करने की आवश्यकता को अहम् बताया। संस्थान के निदेशक, डॉ. सी. आर. मेहता द्वारा स्वागत भाषण में संस्थान की विषय प्रमुख उपलब्धियों की जानकारी प्रदान की गई।

महत्वपूर्ण खबर: उर्वरक अमानक घोषित, क्रय- विक्रय प्रतिबंधित

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *