नाबार्ड की राज्य संभाव्यता रिपोर्ट फरवरी में

Share this

भोपाल। किसानों की आमदनी दुगुनी करने के प्रयासों में कृषक उत्पादक संगठनों (एफपीओ) की भूमिका महत्वपूर्ण है। किसान समूहों के गठन से किसानों को अपनी उपज का उचित मूल्य मिलने के श्रेष्ठ अवसर उपलब्ध होते हैं। उल्लेखनीय है कि एफपीओ के गठन में नाबार्ड की महती भूमिका है। नाबार्ड म.प्र. के मुख्य महाप्रबंधक श्री एस.के. बंसल ने कृषक जगत को एक अनौपचारिक मुलाकात में बताया कि सिंचाई के बढ़ते रकबे, विभिन्न फसलों के उत्पादन में हुई आशातीत वृद्धि से राष्ट्रीय फलक पर म.प्र. विशिष्ट स्थान रखता है। आपने बताया कि नाबार्ड मध्य प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों की संभाव्यता रिपोर्ट फरवरी माह के प्रथम सप्ताह में जारी करेगा। इस रिपोर्ट में कृषि, पशुपालन, उद्यानिकी, कृषि मशीनरी, ग्रामीण विकास, मछली पालन आदि विषयों पर जिलेवार विश्लेषण वर्ष 2020-21 के लिए समाहित होगा। इस स्टेट सेक्टोरल पेपर को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ रिलीज करेंगे।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।