उद्यानिकी खेती की आधुनिक तकनीक सीखेंगे मध्य प्रदेश के किसान

Share

6 अगस्त 2021, रायसेन । उद्यानिकी खेती की आधुनिक तकनीक सीखेंगे मध्य पदेश के किसान – किसानों को उद्यानिकी खेती की नवीन एवं उन्नत तकनीकों की जानकारी देने हेतु प्रशिक्षण एवं प्रगतिशील किसानों के खेतों के भ्रमण के लिए मध्य प्रदेश उद्यानिकी विभाग द्वारा उद्यानिकी क्षेत्र भ्रमण एवं प्रशिक्षण सहित अनेक योजनाएं संचालित की जा रही है। उद्यानिकी क्षेत्र भ्रमण एवं प्रशिक्षण का प्रमुख उद्देश्य उद्यानिकी फसलों को बढ़ावा देने, आधुनिक खेती के प्रति रूझान तथा आधुनिक यंत्रीकरण को बढ़ावा देना है जिससे किसान कम क्षेत्र में अधिकतम उत्पादन प्राप्त कर सके। रायसेन जिले के 35 किसानों का दल उद्यानिकी योजना के तहत प्रदेश के अन्य जिलों के कृषि संस्थानों, प्रगतिशील किसानों के खेतों के भ्रमण सह प्रशिक्षण के लिए रवाना हुए। किसानों के इस दल को कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव द्वारा हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया गया।

दल में शामिल किसान श्री रामसिंह सहित अन्य किसानों ने कहा कि वह उद्यानिकी खेती की नवीन एवं आधुनिक तकनीक जानने के लिए बेहद उत्साहित हैं। प्रदेश सरकार की यह योजना बहुत अच्छी है। भ्रमण के दौरान उन्हें खेती की उन्नत जानकारी मिलने के साथ-साथ प्रशिक्षण मिलेगा। किसानों को फल, फूल की खेती, मसाला फसलों एवं औषधीय खेती की जानकारी देने के साथ ही अपने खेतों पर आधुनिक तरीके से फसल उत्पादक हेतु संरक्षित खेती, प्लास्टिक मल्चिंग, ड्रिप सिंचाई, वर्मी कम्पोस्ट इकाई आदि की जानकारी तथा प्रशिक्षण प्राप्त होगा। किसान श्री रामसिंह ने कहा कि आधुनिक एवं उन्नत तकनीक जानने से वह भी कम लागत में अधिक मुनाफा प्राप्त कर अपनी आर्थिक स्थिति मजबूत कर सकेंगे। जिले के किसानों का यह दल, प्रदेश के अन्य जिलों के प्रगतिशील किसानों के क्षेत्रों का भ्रमण कर फसल उत्पादन की जानकारी प्राप्त कर प्राकृतिक प्रकोप से सुरक्षा, आधुनिक उद्यानिकी फसलों से कम लागत में अधिक मुनाफा प्राप्त करने के संबंध में जानकारी प्राप्त करेंगे। जिले के किसानों का यह दल फल अनुसंधान केन्द्र ईटखेड़ी, कृषि महाविद्यालय सीहोर, कृषि विज्ञान केन्द्र इछावर, कृषि विज्ञान केन्द्र देवास सहित अंतर्राष्ट्रीय शुष्क अनुसंधान आंवला फार्म का भ्रमण कर उन्नत तकनीकी ज्ञान एवं प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे। 

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.