उर्वरक की कालाबाज़ारी पर प्रशासन सख़्त

Share

बड़नगर में व्यापारी का गोदाम तोड़ा , जावरा में भेष बदलकर पकड़ा

25 नवंबर 2021, इंदौर । उर्वरक की कालाबाज़ारी पर प्रशासन सख़्त – उर्वरक की कालाबाज़ारी करने वालों की अब खैर नहीं। अब तक कालाबाज़ारी करने वालों के खिलाफ एफआईआर ही दर्ज की जाती थी, लेकिन अब ऐसे लोगों के खिलाफ प्रशासन द्वारा सख्त कार्रवाई की जा रही है। उज्जैन जिले के बड़नगर में कालाबाज़ारी करने वाले व्यापारी का गोदाम तोड़कर उसे 6 माह के लिए जेल भेज दिया गया, जबकि रतलाम जिले के जावरा में कलेक्टर ने किसानों के भेष में कर्मचारियों को भेजा और कालाबाज़ारी करने वाले व्यापारियों को पकड़ा।

मिली जानकारी के अनुसार फतेहपुर के किसान श्री रामेश्वर राजाराम गुर्जर ने फर्म गजानन मार्केटिंग के खिलाफ उर्वरक अधिक दाम में बेचने की शिकायत की थी। जिस पर एसडीएम निधि सिंह ने स्टाफ के साथ उक्त व्यापारी के गोदाम और दुकान पर छापे की कार्रवाई कर भौतिक सत्यापन के बाद 852 बोरी उर्वरक जब्त किया  था। श्री एमसी काग, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी, बड़नगर की शिकायत पर आरोपी व्यापारी रवि पिता नरेश कल्याणी के खिलाफ भादवि धारा 420,आवश्यक वस्तु अधिनियम की धारा 3 /7, उर्वरक नियंत्रण अधिनियम 1985 की धारा 3 ,5 ,7  के तहत थाने पर प्रकरण दर्ज़ किया गया। लाइसेंस निरस्त करने के अलावा कानून प्रक्रिया का पालन करते हुए प्रशासन ने  कालाबाज़ारी करने वाले व्यापारी का बदनावर मार्ग स्थित गोदाम को ध्वस्त कर दिया। इसके बाद भी प्रशासन के तेवर सख्त रहे।  कलेक्टर और जिला दंडाधिकारी श्री आशीष सिंह द्वारा आरोपी रवि को कालाबाज़ारी निवारण एवं आवश्यक वस्तु अधिनियम 1980 की धारा 3 की उप धारा (1) ( 2 ) के तहत 6 माह के लिए निरुद्ध कर केंद्रीय जेल, उज्जैन भेजने के निर्देश जारी कर दिए।

 दूसरा मामला रतलाम जिले के जावरा का सामने आया है। जहां कलेक्टर श्री कुमार पुरुषोत्तम के निर्देश पर जावरा में तीन दुकानों पर शासकीय कर्मचारी किसानों के भेष में उर्वरक खरीदने पहुंचे तो उन्होंने दुकानदारों को ज्यादा कीमत पर यूरिया बेचते पाया। 45 किलोग्राम के यूरिया कट्टे को भागीरथ बंसीलाल द्वारा 350 रूपए में तथा विमल जैन, चपड़ोद एग्रो एजेंसी तथा कमल चपड़ोद, किसान बीज भंडार द्वारा यूरिया 450 रूपए में बेचा जा रहा था। उर्वरक का निर्धारित से अधिक मूल्य लेने पर दुकानदारों के विरुद्ध तत्काल कार्यवाही की गई, पंचनामा बनाया गया, दुकानें सील कर दी गई और पुलिस थाने में एक व्यापारी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई। तहसीलदार जावरा के अनुसार दो दुकानों पर कोटवार तथा एक दुकान पर होमगार्ड सैनिक किसान के भेष में गए थे और इस कालाबाज़ारी को पकड़ा था। जिला प्रशासन ने समस्त उर्वरक विक्रेताओं को चेतावनी दी है कि वे निर्धारित कीमत पर ही यूरिया तथा अन्य उर्वरकों का विक्रय किसानों को करें अन्यथा सख्त कार्रवाई के लिए तैयार रहें।

श्री विजय चौरसिया , उप संचालक कृषि, रतलाम ने कृषक जगत को बताया कि तीनों व्यापारी उर्वरक को निर्धारित मूल्य 266.50 के बजाय 350 रु और इससे अधिक मूल्य पर बेच रहे थे। एक व्यापारी भागीरथ बंसीलाल के खिलाफ एफआईआर दर्ज़ कराई गई है, जबकि दो अन्य व्यापारियों के खिलाफ कार्रवाई प्रचलन में है।

Share
Advertisements

One thought on “उर्वरक की कालाबाज़ारी पर प्रशासन सख़्त

  • कास इस तरह की कार्वाई और भी जगह की जाये तो चोरो को कुछ पता चले

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.