अहिल्यामाता गौशाला के विकास पर खर्च होंगे 173 लाख

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

5 मार्च, 2021, इंदौरअहिल्यामाता गौशाला के विकास पर खर्च होंगे 173 लाख   मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की अध्यक्षता में गत माह सम्पन्न हुई कलेक्टर और कमिश्नर कांफ्रेंस में दिए  गए निर्देशानुसार प्रदेश के प्रत्येक जिले में  एक वृहद गौशाला का विकास किया जाना है। इस क्रम में  इन्दौर जिले में  इन्दौर जनपद पंचायत के ग्राम पेडमी में संचालित अहिल्यामाता गौशाला का चयन जिले की आदर्श गौशाला के रूप मे विकसित किए जाने हेतु किया गया है । गौशाला के विभिन्न विकास कार्यों के लिए 173 लाख रूपये खर्च होने का अनुमान है l

 उक्त गौशाला के विकास कार्यो के संबंध में चर्चा के लिये कलेक्टर श्री मनीष सिंह की अध्यक्षता में कलेक्टोरेट में गत दिनों हुई  बैठक में जिला पंचायत सीईओ श्री हिमांशु चंद्र ने बताया कि उक्त गौशाला में वर्तमान में 400 गौवंश है। गौशाला की क्षमता वृद्धि की जा रही है। इसके लिए  150 गौवंश के लिये 02 इकाई मनरेगा अन्तर्गत स्वीकृत की गई है। मौके पर निर्माण प्रारंभ कर दिया गया है । यह कार्य 15 मई 2021 तक पूर्ण होगा । इसके अतिरिक्त 300 गौवंश के लिये गौशाला शेड निर्माण के कार्य की स्वीकृति की कार्यवाही की जा रही है । गौशाला की कुल क्षमता 900 से 1000 गौवंश हो सकेगी ।

  उक्त गौशाला में बायोगैस संयत्र वर्तमान में संचालित है। गौशाला में गौकाष्ठ निर्माण हेतु मशीन उपलब्ध कराई गई है एवं गौ-काष्ठ उत्पादन प्रारंभ किया जा रहा है। गौशाला में गौ-फिनायल एवं हवन कण्डे का निर्माण भी शुरू किया जा रहा है ।  मनरेगा से नाडेप एवं वर्मी पिट के कार्य भी स्वीकृत किए गए हैं जिनसे कम्पोस्ट खाद का उत्पादन किया जायेगा । गौशाला के 2 हेक्टेयर क्षेत्र के लिये नेपीयर घास उत्पादन की उपयोजना मनरेगा से स्वीकृत की जा चुकी है। जिससे गौवंश को हरा चारा मिल सकेगा। गौशाला के आय के स्रोत  निर्मित करने के लिये गौशाला परिसर में फलोद्यान विकास कार्य मनरेगा से स्वीकृत किए  जा रहे हैं  ।

 बैठक में बताया कि  गौशाला से संबंधित भूमि में भू-जल रिचार्ज एवं सिंचाई जल उपलब्धता के लिये पूर्व से विद्यमान तालाब का सुद्ढीकरण एवं जीर्णोद्धार का कार्य एवं 04 पोण्ड के कार्य भी मनरेगा से स्वीकृत किए  जा रहे हैं । सिंचाई हेतु निर्मल नीर उपयोजना में कूप निर्माण भी कराया जाना प्रस्तावित है। गौ-टूरिज्म को आकर्षित करने के उद्धेश्‍य से गौशाला परिसर में मंदिर कुंज एवं नक्षत्र वाटिका का विकास भी किया जायेगा। गौशाला विकास के लिये उक्त प्रस्तावित कार्यो पर 173 लाख रूपये का व्यय अनुमानित है । कलेक्टर श्री मनीष सिंह ने बताया कि उक्त कार्यो का उद्देश्य  गौशाला को आत्मनिर्भर बनाते हुए आदर्श गौशाला के रूप में  विकसित किए जाने का है। बैठक में अहिल्यामाता गौशाला ट्रस्ट के अध्यक्ष श्री रामेश्वर असावा , कोषाध्यक्ष श्री पुरषोत्तम पसारी , सचिव श्री शंकरलाल अग्रवाल,  परियोजना अधिकारी श्री अनिल पंवार, सीईओ जनपद इन्दौर श्री जी.एस. प्रजापति आदि उपस्थित थे।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।