राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

विश्व मधुमक्खी दिवस: भारत की शहद के लिए ब्रांडिंग, ठोस रणनीति ज़रूरी

Share

शशिकांत त्रिवेदी

19 मई 2024, नई दिल्ली: विश्व मधुमक्खी दिवस: भारत की शहद के लिए ब्रांडिंग, ठोस रणनीति ज़रूरी – सन 2000 के आसपास तत्कालीन मध्यप्रदेश सरकार ने स्थानीय स्तर पर उगाये जाने वाले मसालों, अचार पापड आदि की ब्रांडिंग करने की योजना पर खादी ग्रामोद्योग बोर्ड को जिम्मेदारी दी. बहुराष्ट्रीय कम्पनी हिंदुस्तान लीवर ( अब यूनिलीवर) और प्रसिद्द विज्ञापन कम्पनी लिंटास लोवे की मदद से मध्यप्रदेश के अपने कुछ खाद्य उत्पादों के लिए विन्ध्या वैली ब्रांड का जन्म हुआ. इन उत्पादों में शहद भी शामिल है. हाँलांकि शहद एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जिसे किसान नहीं उगाते बल्कि मधुमक्खियाँ बनाती हैं. इन छोटे से प्राणियों का योगदान विश्व के भोजन के उत्पादन में अत्यधिक महत्वपूर्ण है।

शहद एक स्वास्थ्यवर्धक खाद्य पदार्थ है। यह न केवल मिठास और स्वाद के लिए जाना जाता है, बल्कि इसके विभिन्न औषधीय गुण भी होते हैं। भले ही नई खोज से डॉक्टर और वैज्ञानिक शहद में पाए जाने वाली शक्कर को बाजार में मिलने वाली शक़्कर के बराबर नुकसान दायक मानते हैं. शहद का इस्तेमाल खाद्य और पेय पदार्थ के अलावा सैन्य, चिकित्सा और कॉस्मेटिक, पेंट और रसायन उद्योग में भी होता है। मधुमक्खियों द्वारा एक खास पदार्थ किसे प्रोपोलिस कहते हैं इसमें पौधों के रेजिन की एक श्रृंखला होती है। इसे मधुमक्खियाँ छत्ते में छिद्रों को सील करने के लिए उपयोग करती हैं. प्रोपोलिस का उपयोग अब विभिन्न औषधीय प्रयोगों जैसे एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-फंगल, एंटी ट्यूमर और कुछ एंटी-वायरल के लिए किया जाता है। रॉयल जेली का व्यापक रूप से भोजन के पूरक के रूप में उपयोग किया जाता है, और हालांकि कुछ सबूत हैं कि रॉयल जेली में कुछ कोलेस्ट्रॉल कम करने वाले, सूजन-रोधी, घाव भरने वाले और एंटीबायोटिक प्रभाव हो सकते हैं। भारत में शहद की किस्मों, सम्बन्धित उत्पादों, मधुमक्खी पालकों की सही संख्या पर कोई ठोस आँकड़ा और अध्ययन नहीं हुआ है.

आज वैश्विक बाजार में शहद की मांग बढ़ रही है। अनुमानों के मुताबिक इसका वैश्विक बाजार आंकड़ा 5.2 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि दर से बढ़ने की उम्मीद है, जो 2023 में 9 बिलियन डॉलर (लगभग 7500 करोड़) से बढ़कर 2031 में 13 बिलियन डॉलर (लगभग 11000 करोड़) हो जाएगा ।

भारत ने अपना पहला संगठित निर्यात वर्ष 1996-97 में शुरू किया था। केंद्र सरकार के आंकड़ों के मुताबिक भारत देश ने 2020-21 के दौरान 716 करोड़ (यूएस $96.77 मिलियन) मूल्य का 59,999 मीट्रिक टन प्राकृतिक शहद निर्यात किया. अमेरिका भारत के कुल निर्यात का लगभग 80 फ़ीसदी शहद आयात करता है. सन 2020-21 में यह 44,881 मीट्रिक टन था. इसके अलावा सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, बांग्लादेश और कनाडा भारतीय शहद आयात करते हैं.

भारत में, लगभग 12,699 मधुमक्खी पालक और 19.34 लाख शहद मधुमक्खी कालोनियाँ राष्ट्रीय मधुमक्खी बोर्ड के साथ पंजीकृत हैं और भारत लगभग 1,33,200 मीट्रिक टन शहद (2021-22 दूसरा अग्रिम अनुमान) का उत्पादन कर रहा है।

आंकड़ों के मुताबिक भारत में शहद उत्पादन का 50% से अधिक अन्य देशों में निर्यात किया जा रहा है। भारत लगभग 83 देशों को शहद निर्यात करता है। भारतीय से निर्यात की जाने वाली शहद की किस्मों में सरसों शहद, नीलगिरी शहद, लीची शहद, सूरजमुखी शहद, मल्टी-फ्लोरा हिमालय शहद, बबूल शहद, और जंगली वनस्पति शहद शामिल हैं। अभी मधुमक्खी पालकों की सहायता के लिए कुल 102 परियोजनाएं राष्ट्रीय मधुमक्खी पालन एवं शहद मिशन के तहत चल रही हैं जिनके लिए 133.31 करोड़ रुपये (2021) स्वीकृत हैं. राष्ट्रीय मधुमक्खी बोर्ड के मधुक्रांति पोर्टल पर 200 से अधिक पंजीकृत समितियों के साथ लगभग 14,000 मधुमक्खी पालक पंजीकृत हैं। फिर भी भारत में मधुमक्खी पालकों के लिए एक ठोस ब्रांडिंग रणनीति की ज़रूरत है.

विकसित देशों की तुलना में भारत में शहद की खपत बहुत कम है, जो लगभग 10 ग्राम पर व्यक्ति प्रति वर्ष होती है। उत्पादकों की दृष्टि से, शहद उद्योग में कुछ महत्वपूर्ण चुनौतियाँ हैं। शहद की खपत में महामारी के बाद गिरावट आई है। विकसित देशों की तुलना में भारत में शहद की खपत बहुत कम है, जो लगभग 10 ग्राम पर व्यक्ति प्रति वर्ष होती है।

भारत में शहद की खपत में कोरोना महामारी के बाद गिरावट आई है। सरकार ने हाल ही में न्यूनतम निर्यात मूल्य 2 डॉलर प्रति किलोग्राम लगाया है। यूएसडीए के अनुसार, अमेरिका भारतीय प्राकृतिक शहद का आयात लगभग 1.1 डॉलर प्रति पाउंड पर करता है, जो अन्य अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धी बाजारों से किये जाने वाले आययात की तुलना में कम है।

सीमित सहयोग के कारण, मधुमक्खी पालकों को अक्सर मौसम के आधार पर स्थानीय बाजारों में ₹100-110 प्रति किलोग्राम की कीमत पर बेचने के लिए मजबूर होना पड़ता है। शहद उद्योग के लम्बे समय तक बाजार में बने रहने के लिए एक मजबूत विपणन रणनीति की आवश्यकता है। संगठित भारतीय शहद बाजार में सीमित उत्पादक हैं, और अभी बहुत से उत्पादकों विशेषकर स्टार्ट-अप और एफपीओ के लिए बहुत संभावनाएं हैं।

जबकि कुछ एफपीओ ने शहद मूल्य श्रृंखला विकसित करना शुरू किया है, उन्हें अभी भी अपनी ब्रांडिंग रणनीतियों को सुधारने की आवश्यकता है। सरस मेले की तरह, सरकार को, खासकर राज्य सरकारों को शहद और उसके दूसरे संबंधित उत्पादों के लिए वार्षिक राष्ट्रीय स्तर पर मेले आदि आयोजित करना चाहिए, जिसमें खरीदारों और विक्रेताओं को एक साथ लाया जाए। इस वर्ष, महाराष्ट्र ने राज्य-स्तरीय शहद मेले की शुरुआत की है, लेकिन राज्यों में सहयोग की आवश्यकता है। इसके अलावा, उत्पादकों को लगातार मूल्य समर्थन प्रदान करने के लिए एफपीओ और स्टार्ट-अप को फार्मास्यूटिकल्स, सौंदर्य प्रसाधन, वाइन इत्यादि जैसे उद्योगों के साथ सहयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

उत्पादकों के लिए उत्पादन लागत से कम से कम 30-50 फ़ीसदी मार्जिन पर मूल्य गारंटीसुनिश्चित करना चाहिए। उत्पादकों को पर्याप्त मुआवजा देने से वे नये शहद उत्पादों में विविधता लाने और अपनी आजीविका में सुधार करने के लिए प्रेरित होंगे। अंतर्राष्ट्रीय बाज़ारों में शहद की ब्रांडिंग को बढ़ावा देने के लिए, निर्यात के लिए एक शर्त, एनएमआर परीक्षण में सुधार के प्रयास किए जाने चाहिए।

भारत में एनएमआर परीक्षण आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए पर्याप्त बुनियादी ढांचे का अभाव है। विश्व मधुमक्खी दिवस (20 मई) के अवसर पर, भारत को शहद उत्पादन में लगे स्वदेशी समुदायों की रक्षा करनी चाहिए, उत्पाद लेबलिंग के माध्यम से शहद उत्पादकों की स्थानीय कहानियों और उनके अद्वितीय उत्पादों को उजागर करना चाहिए।

उत्पाद की उत्पत्ति की रक्षा करने और इसकी प्रामाणिकता सुनिश्चित करने के लिए, तीन शहद उत्पादों को भौगोलिक संकेत टैग के तहत पंजीकृत किया गया है, लेकिन उनके बाजार मूल्य को बढ़ाने के लिए और अधिक प्रयासों की आवश्यकता है।

शहद मूल्य श्रृंखला में मधुमक्खी पालकों, खरीदारों, गुणवत्ता परीक्षण प्रयोगशालाओं और बाजार विशेषज्ञों को जोड़ने के लिए ठोस प्रयास चाहिए, जिससे एक स्थायी शहद बाजार तैयार हो सके।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

To view e-paper online click below link: https://www.krishakjagat.org/kj_epaper/Detail.php?Issue_no=36&Edition=mp&IssueDate=2024-05-06

To visit Hindi website click below link:

www.krishakjagat.org

To visit English website click below link:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements