भारत में जैविक खेती का रकबा पिछले तीन वर्षों में दोगुना हुआ

Share

23 जुलाई 2022, नई दिल्ली: भारत में जैविक खेती का रकबा पिछले तीन वर्षों में दोगुना हुआ – भारत में पिछले तीन वर्षों में जैविक खेती का रकबा बढ़ रहा है और दोगुना से अधिक हो गया है। 2019-20 में रकबा 29.41 लाख हेक्टेयर था, 2020-21 में यह बढ़कर 38.19 लाख हेक्टेयर हो गया और पिछले साल 2021-22 में यह 59.12 लाख हेक्टेयर था |

ये कृषि क्षेत्र जैविक खाद और अन्य जैविक आदानों का उपयोग कर रहे हैं और भारत की 140 मिलियन हेक्टेयर कृषि योग्य भूमि का हिस्सा हैं। 2021-22 तक, 59.12 लाख हेक्टेयर में जैविक खेती का रकबा 140 मिलियन हेक्टेयर कृषि योग्य भूमि का 4.22% है। हालांकि यह क्षेत्र बहुत कम है लेकिन वृद्धि सराहनीय है।

इसके अलावा, देश में संपूर्ण कृषि योग्य भूमि के लिए एकीकृत पोषक प्रबंधन (INM) को अपनाने का सुझाव दिया गया है जो रासायनिक, जैविक और जैव-उर्वरक सहित उर्वरकों के संतुलित उपयोग को बढ़ावा देता है।

सरकार परंपरागत कृषि विकास योजना (पीकेवीवाई) और पूर्वोत्तर क्षेत्र में मिशन ऑर्गेनिक वैल्यू चेन डेवलपमेंट (एमओवीसीडीएनईआर) की समर्पित योजनाओं के माध्यम से जैविक खेती को बढ़ावा दे रही है।

किसानों को बीज, जैव उर्वरक, जैव-कीटनाशक, जैविक खाद, खाद , वर्मी-कम्पोस्ट जैसे जैविक आदानों के लिए वित्तीय सहायता (पीकेवीवाई में 31000 / हेक्टेयर / 3 वर्ष और MOVCDNER के तहत 32500 / हेक्टेयर / 3 वर्ष) प्रदान की जाती है।

महत्वपूर्ण खबर: सोयाबीन कृषकों के लिए उपयोगी सलाह (18-24 जुलाई ) 

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.