राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

विपणन सत्र 2024-25 के लिए खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित

Share

 सोयाबीन में 292 और धान में 117 रुपए प्रति क्विंटल की वृद्धि 

20 जून 2024, भोपाल: विपणन सत्र 2024-25 के लिए खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित – प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने विपणन सत्र 2024-25 के लिए सभी आवश्यक खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में वृद्धि को मंजूरी दे दी है। इस फैसले का उद्देश्य उत्पादकों को उनकी उपज के लिए लाभकारी मूल्य सुनिश्चित करना है।

सरकार ने विशेष रूप से तिलहन और दालों के लिए एमएसपी में सबसे अधिक वृद्धि की है। रामतिल  के लिए एमएसपी में 983 रुपये प्रति क्विंटल, तिल के लिए 632 रुपये प्रति क्विंटल, और तुअर/अरहर के लिए 550 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि की गई है।

पिछले कुछ वर्षों में, सरकार ने अनाज, दालों और तिलहन की खेती को प्रोत्साहित करने के लिए उच्च एमएसपी की पेशकश की है। 2003-04 से 2013-14 की अवधि में बाजरा के लिए एमएसपी में न्यूनतम निरपेक्ष वृद्धि 745 रुपये प्रति क्विंटल थी, जबकि 2013-14 से 2023-24 की अवधि में रामतिल  के लिए अधिकतम वृद्धि 4234 रुपये प्रति क्विंटल थी।

इस वृद्धि के साथ, सरकार ने 2018-19 के केंद्रीय बजट में की गई घोषणा को पूरा किया है, जिसमें एमएसपी को अखिल भारतीय भारित औसत उत्पादन लागत के कम से कम 1.5 गुना के स्तर पर तय करने का वादा किया गया था।

कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार हाल के वर्षों में अनाज के अलावा दालों, तिलहन, और पोषक अनाज की खेती को बढ़ावा देने के लिए उच्च एमएसपी की पेशकश कर रही है।

वर्ष 2023-24 के लिए उत्पादन के तीसरे अग्रिम अनुमान के अनुसार देश में कुल खाद्यान्न उत्पादन 3288.6 लाख मीट्रिक टन होने का अनुमान है तथा तिलहन उत्पादन 395.9 लाख मीट्रिक टन  को छू रहा है। चावल, दालों, तिलहनों और पोषक अनाज/श्री अन्न तथा कपास का खरीफ उत्पादन क्रमशः 1143.7 लाख मीट्रिक टन , 68.6 लाख मीट्रिक टन , 241.2 लाख मीट्रिक टन , 130.3 लाख मीट्रिक टन , और 325.2 लाख गांठ होने का अनुमान है।

खरीफ विपणन सत्र 2024-25 के अंतर्गत आने वाली 14 फसलों के लिए एमएसपी में वृद्धि से किसानों को उनकी उत्पादन लागत पर लाभकारी मार्जिन प्राप्त होगा। बाजरा (77 प्रतिशत), तुअर (59 प्रतिशत), मक्का (54 प्रतिशत) और उड़द (52 प्रतिशत) के मामले में किसानों को सबसे अधिक लाभ मिलेगा।

सरकार के इस कदम से किसानों को उनकी फसलों के लिए उचित मूल्य मिल सकेगा और उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा।

खरीफ 2024-25 के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (इकाई : रु. प्रति क्विं. में)

फसल2020-212021-222022-232023-24वृद्धि2024-25
धान (सामान्य)18681940204021831172300
धान (ग्रेड ए)18881960206022031172320
ज्वार (हाइब्रिड)26202738297031801913371
ज्वार (मालदंडी)26402758299032251963421
बाजरा21502250235025001252625
रागी32953377357838464444290
मक्का18501870196220901352225
अरहर60006300660070005507550
मूंग71967275775585581248682
उड़द60006300660069504507400
मूंगफली52755550585063774066783
सूरजमुखी58856015640067605207280
सोयाबीन38803950430046002924892
तिल68557307783086356329267
रामतिल66956930728777349838717
कपास मीडियम55155726608066205017121
लांग स्टेपल58256025638070205017521

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:
www.krishakjagat.org/kj_epaper/

अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:
www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements