राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

भारतीय कृषि में भूमि क्षरण, मरुस्थलीकरण और सूखे से निपटने की क्षमता

Share

अतिथि लेखक – आशीष डोभाल, सीईओ, यूपीएल एसएएस

20 जून 2024, भोपाल: भारतीय कृषि में भूमि क्षरण, मरुस्थलीकरण और सूखे से निपटने की क्षमता – चरम मौसमी घटनाएँ तेजी से आम होती जा रही हैं। बाढ़, अनियमित वर्षा और अधिक  गर्मी – जलवायु परिवर्तन के ये परिणाम हम सभी के लिए आम होते जा रहे हैं। परन्तु जो लोग कृषि से नहीं जुड़े हैं, उनके लिए ये प्रभाव विघ्नकारक  और असुविधाजनक हैं। हालाँकि, कृषि क्षेत्र के लिए ये मुख्य रूप से भूमि क्षरण का  कारण बन  खतरा पैदा करते हैं।

संयुक्त राष्ट्र की मरुस्थलीकरण से जूझने वाली  UNCCD रिपोर्ट के अनुसार, 2019 तक, भारत में 30.51 मिलियन हेक्टेयर भूमि खराब  हो गई  थी, जो देश के कुल भूमि क्षेत्र का 9.45% है। इसके अतिरिक्त, 2019 में 120 मिलियन हेक्टेयर से अधिक, भारत के एक तिहाई से अधिक भूमि क्षेत्र, सूखे की स्थिति में बताया गया।आँकड़ों से यह भी पता चलता है कि भारत की 18 प्रतिशत से अधिक आबादी भूमि क्षरण से प्रभावित  थी, और चौंका देने वाली बात यह है कि 83.85 प्रतिशत लोगों को सूखे का सामना करना पड़ा था । स्थिति वास्तव में भयावह है, जिसमें लगातार बढ़ती मौसम की चरम घटनाएँ एक प्रमुख कारक हैं।

संयोग  से, मृदा स्वास्थ्य को संरक्षित करने और भूमि क्षरण को रोकने और पुनः स्वस्थ बनाने  के उपाय हैं। आवश्यकता है जलवायु-स्मार्ट दृष्टिकोण की, जो मौसम की चरम घटनाओं और सूखे का सामना करने के लिए लचीलापन बनाते हुए मिट्टी की उर्वरता को बढ़ाता है। इसमें फसल पोषण और सुरक्षा, सटीक कृषि, फसल चक्र और अंतरवर्तीय-फसल शामिल हैं।

उपजाऊ मिट्टी की क्षमता

सटीक कृषि मौसम की स्थिति, मिट्टी के स्वास्थ्य और फसल की वृद्धि पर डेटा का उपयोग करके आवश्यक सटीक इनपुट निर्धारित करती है। आवश्यक पानी, पोषक तत्वों, उर्वरकों और कीटनाशकों की मात्रा का सटीक रूप से आकलन करके, किसान पानी जैसे संसाधनों का अधिक जिम्मेदारी से और कुशलता से उपयोग कर सकते हैं, जिससे मिट्टी पर दबाव कम हो सकता है। फसल चक्र और अंतर-फसल जैसी प्रथाओं के साथ, यह दृष्टिकोण मिट्टी के स्वास्थ्य को संरक्षित करता है और इसकी उर्वरता को बढ़ाता है।

उपजाऊ मिट्टी में अपार क्षमता होती है, जिसका उपयोग कृषि वानिकी के माध्यम से किया जा सकता है। कृषि वानिकी इस बात का उदाहरण है कि कैसे खेत और जंगल सहजीवी रूप से सह-अस्तित्व में रह सकते हैं। जंगल के पेड़ मिट्टी को समृद्ध करते हैं और फसलों को चरम मौसम से बचाते हैं।

जलवायु-स्मार्ट उत्पाद- ज़ेबा

नवाचार पहले से ही गति में है। उदाहरण के लिए, यूपीएल  ने फसल संरक्षण और मृदा स्वास्थ्य से लेकर पौध उत्प्रेरक  और कटाई के बाद के समाधानों के लिए जलवायु-स्मार्ट उत्पादों की एक विस्तृत श्रृंखला विकसित की है। एक उल्लेखनीय सफलता ज़ेबा तकनीक है, जो एक पेटेंटेड टिकाऊ सुपरअब्ज़ॉर्बेंट बायोडिग्रेडेबल उत्पाद है ।

ज़ेबा मिट्टी की जल धारण क्षमता को बढ़ाता है, फसल के जड़ क्षेत्र में पोषक तत्वों के उपयोग की क्षमता  में सुधार करता है, और मिट्टी के माइक्रोबायोम को सकारात्मक रूप से प्रभावित करता है, जिससे मिट्टी का स्वास्थ्य बना रहता है। ज़ेबा को अपनाने से पारंपरिक सिंचाई विधियों की तुलना में जल दक्षता में 15-20% की वृद्धि हो सकती है, जिससे गन्ना और मूंगफली जैसी फसलों को लाभ होता है। इसी तरह  ड्रिप इरीगेशन से पानी की बर्बादी कम होती है और फसल की पैदावार अधिकतम होती है।

ज़ेबा से पानी की बचत

ज़ेबा का इस्तेमाल 2023 में भारत में 1.2 लाख एकड़ कृषि भूमि पर किया गया और इससे 72 बिलियन लीटर पानी की बचत हुई। इसके अलावा, ज़ेबा के इस्तेमाल से उर्वरक के इस्तेमाल में 25% की कमी आई, जबकि बिजली पर 1,500 रुपये प्रति एकड़ और श्रम पर 1,000 रुपये प्रति एकड़ की बचत हुई। कुल मिलाकर, ज़ेबा ने किसानों को 5,000 रुपये से कम के अतिरिक्त खर्च पर प्रति हेक्टेयर 22,000 रुपये से अधिक की अतिरिक्त आमदनी करने  में मदद की है।

यूपीएल सामाजिक वानिकी को बढ़ावा देकर वनीकरण प्रयासों में भी योगदान दे रही है, जहां समुदाय बंजर और वनों की कटाई वाली भूमि को बहाल करने के लिए मिलकर काम करते हैं, जिससे पर्यावरण, सामाजिक और ग्रामीण विकास को बढ़ावा मिलता है।

भारतीय कृषि में भूमि क्षरण, मरुस्थलीकरण और सूखे से निपटने के लिए बहुआयामी और सहयोगात्मक दृष्टिकोण की आवश्यकता है। अभिनव जलवायु-स्मार्ट प्रथाओं को अपनाकर और किसानों, सरकार और निजी क्षेत्र के बीच सहयोग को बढ़ावा देकर, हम भारत के लिए एक टिकाऊ और लचीला कृषि भविष्य बना सकते हैं। इसी के साथ  सरकार को एक सक्षम नीति निर्धारण का वातावरण बनाना चाहिए, जिससे निजी क्षेत्र अभिनव समाधान पेश कर सके ।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:
www.krishakjagat.org/kj_epaper/

अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:
www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements