समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी की तैयारियां

Share this

धार। कलेक्टर श्री श्रीमन् शुक्ला ने गत दिनों कलेक्टर कार्यालय में रबी विपणन वर्ष 2017-18 के लिए समर्थन मूल्य पर गेहूं उपार्जन की तैयारियों की समीक्षा की। बैठक में बताया गया कि वर्ष 2017-18 के लिए 14 जनवरी 2017 से ऑनलाईन पंजीयन शुरू होंगे तथा 14 फरवरी 2017 तक जारी रहेंगे। पंजीयन नि:शुल्क होगा।
बैठक में बताया गया कि राज्य शासन द्वारा समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी हेतु 27 मार्च से 27 मई 2017 तक की अवधि निर्धारित की गई है। गेहूं खरीदी हेतु पिछले वर्ष 82 खरीदी/उपार्जन केन्द्र स्थापित किए गए थे। वर्तमान वर्ष के लिए 01 अतिरिक्त खरीदी केन्द्र हेतु प्रस्ताव प्राप्त हुआ है। कलेक्टर श्री शुक्ला ने प्रस्ताव का परीक्षण करने तथा औचित्य के साथ प्रस्ताव तैयार कर शासन को भिजवाने के निर्देश दिए।
बैठक में बताया गया कि किसानों को पंजीयन में आधार नंबर, समग्र परिवार आईडी, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक की शाखाओं अथवा राष्ट्रीयकृत बैंक में खोले गए बैंक खाते की जानकारी तथा मोबाईल नंबर देना अनिवार्य होगा। यदि किसी किसान का आधार पंजीयन नहीं हुआ है, तो किसानों से अनुरोध किया गया है कि वे आधार पंजीयन कराकर ई-आई.डी. नंबर उपलब्ध करवाए। बैठक में निर्देश दिए गए कि किसानों को समय से एस.एम.एस. भेजने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए, ताकि किसान निश्चित तारीख को अपनी उपज बेचने हेतु खरीदी केन्द्र पर आ सके। बताया गया कि एस.एम.एस. भेजने की कार्यवाही 15 मार्च 2017 से शुरू होकर 20 मई 2017 तक पूरी की जानी है।
कलेक्टर श्री शुक्ला ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि खरीदी केन्द्रों पर गेहूं की खरीदी की पारदर्शी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। किसानों के लिए खरीदी केन्द्रों पर सभी आवश्यक सुविधाएं प्रदान की जाए। समर्थन मूल्य पर उपार्जित गेहूं खरीदी केन्द्रों पर ज्यादा समय तक नहीं पड़ा रहे, बल्कि गेहूं के परिवहन व भण्डारण की समुचित व्यवस्था की जाए। उन्होने किसानों को उपार्जित गेहूं के समय पर भुगतान व राशि के खातों में समय से हस्तांतरण पर विशेष जोर दिया तथा अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इसके साथ ही तौल-कांटे, सिलाई मशीनों तथा बारदानों की आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित करने हेतु निर्देशित किया।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।