तकनीकी जानकारी से एवं मशीनरी का उपयोग कर हुआ सफल किसान

Share this

जबलपुर। जबलपुर के किसान अजीत अग्रवाल ग्राम उमरिया पोस्ट खमरिया तहसील पनागर जिला जबलपुर के किसान हैं जिन्होंने 4 एकड़ जमीन में अपनी रुचि के अनुसार बेंगान की फसल लगाई ऐसे में रिलायंस फाउंडेशन के कार्यकर्ता द्वारा अजीत अग्रवाल को बताया गया कि विभाग द्वारा गुड़ाई के लिए मशीन 50 प्रतिशत सब्सिडी द्वारा दी जा रही है उनका उन्होंने पंजीयन करवाया और विभाग द्वारा सब्सिडी का उन्होंने लाभ लिया उनको जो मशीन 120000 में मिल रही थी वह 60000 में मिली और उन्होंने 4 एकड़ में बैंगन की खेती में निंदाई एवं गुड़ाई के लिए के लिए उपयोग किया और सफलता मिली यह बता रहे हैं कि पहले हमें 10 से 12 मजदूर लगते थे अब हम मशीन के द्वारा उसको 2 घंटे में  कवर कर लेते हैं इसी प्रकार 4 एकड़ में उन्होंने 2 महीने में रू. 18000 मजदूरी खर्च को बचाया और साथ ही तकनीकी जानकारी हेल्पलाइन नंबर पर लेते रहे वैज्ञानिकों द्वारा सलाह के अनुसार उन्होंने अपने खेती में जानकारी का उपयोग किया तथा जिओचैट पर आ रही जानकारी भी लेते रहे बंैगन में मुख्य रूप से कीट का प्रकोप अधिक होने की वजह से फसलें खराब हो जाती थी लेकिन अजीत जी कहते हैं अगर किसान सही बीज का चुनाव करें सही तकनीकी अपनाकर फसलों को लगाकर वैज्ञानिकों के अनुसार करता है तो ऐसी कोई बात नहीं है कि उसे सफलता ना मिले। मौसम के परिवर्तन और जानकारी मिलना बहुत आवश्यक होता है रिलायंस फाउंडेशन की सूचना सेवा द्वारा उन्होंने कर दिखाया पिछले 2 महीने में अपनी फसल मैं अभी लगभग 80000 का लाभ अभी ले चुके हैं और आने वाले दो-तीन महीने में लगभग 300000 मिलेगा और मशीन दिखा पूरा उपयोग करते हैं कीट एवं बीमारी आने से पहले जैसे ही फसल में  पौधों में दिखती है तुरंत हेल्पलाइन 1800 419 88 00 पर कॉल करके समस्या का समाधान पा लेते हैं। इस प्रकार अजीत अग्रवाल एक सफल किसान के रूप में मानते हैं की किसान समय के अनुसार तकनीकी जानकारी सही स्रोत और सही इस्तेमाल करने के तरीकों को समझें तभी सफल हो सकता है इसमें रिलायंस फाउंडेशन को धन्यवाद देतेहै वह कहते हैं मेरे बैंगन की फसल को देखने के लिए कई गांव के लोग देखने आते हैं और कहते हैं इस तरह की फसल का प्रबंधन एवं उत्पादन हमने पहली बार देखा है।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।