धान खरपतवारों के नियंत्रण के लिए स्वाल कॉर्पोरेशन का सम्पूर्ण समाधान राइस बॅक

Share
  • नवीन पटले, क्रॉप मैनेजर पैडी,
    स्वाल कॉर्पोरेशन

21 जून 2021, धान खरपतवारों के नियंत्रण के लिए स्वाल कॉर्पोरेशन का सम्पूर्ण समाधान – धान की फसल में खरपतवार एक गंभीर समस्या है। खरपतवारों का समय पर सही नियंत्रण ना होने पर फसल के उत्पादन में बहुत कमी आ सकती है। खरपतवार फसल के साथ उगते है और खाद,पानी,पोषण और जगह के लिए स्पर्धा करते हैं, परिणाम स्वरुप धान का विकास ठीक से नहीं हो पाता और उत्पादन में बहुत कमी आती है। किसानों को खरपतवारों से छुटकारा दिलाने के लिए स्वाल कॉर्पोरेशन ने कई बेहतरीन खरपतवारनाशक उपलब्ध कराया है।

स्टिलेटो

रोपाई पद्धति वाले धान में खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए स्वाल कॉर्पोरेशन का स्टिलेटो एक अति उत्तम खरपतवार नाशक है जो खरपतवारों को उगने से पहले ही नियंत्रित कर देता है। स्टिलेटो एक व्यापक अंतर्प्रभावी खरपतवारनाशक है जो धान के विभिन्न खरपतवार जैसे लाल सांवा, सफ़ेद सांवा, चौड़ी पत्ती वाले खरपतवार जैसे पान पत्ता, पीले फुल वाली बूटी एवं मोथा प्रजाति के खरपतवार जैसे छतरी वाला मोथा, बुई गांठ वाला मोथा और धान के मोथा का प्रभावी नियंत्रण करता है।

प्रयोग की विधि

स्टिलेटो का प्रयोग धान की रोपाई के 0-3 दिनों के अंदर 800 मिली प्रति एकड़ की दर से 120 लीटर में मिला कर स्प्रे किया जा सकता है या रेत/यूरिया के साथ मिलाकर छिडक़ाव किया जा सकता है। स्टिलेटो एक अद्भुत खरपतवार नाशक है जो धान की फसल के लिए पूर्ण रूप से सुरक्षित है और खरपतवार मुक्त फसल प्रदान करता है।

अमेेरेक्स का छिडक़ाव

WET DSR (लाई चोपी) पद्धति की धान की फसल में खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए स्वाल कॉर्पोरेशन की तरफ से दो उत्पाद अमेरेक्स और राइस बॅक अत्यंत प्रभावी और उत्कृष्ट खरपतवार नाशक है।

अमेरेक्स का प्रयोग धान की बुवाई के बाद 0-3 दिनों तक 80 ग्राम प्रति एकड़ की दर से रेत/यूरिया में मिला कर छिडक़ाव किया जा सकता है या 120 लीटर पानी में मिला कर स्प्रे किया का सकता है। अमेरेक्स सकरी पत्ती वाले घास, चौड़ी पत्ती और मोथा प्रजाति वाले खरपतवारों के ऊपर प्रभावी नियंत्रण प्रदान करता है।

राइस बॅक का प्रयोग

WET DSR   (लाई चोपी) पद्धति की धान की फसल में 15-20 दिनों की अवस्था में उगे हुऐ सकरी पत्ती वाले घास, चौड़ी पत्ती और मोथा प्रजाति वाले खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए राईस बॅक का प्रयोग करे। राईस बॅक का प्रयोग खरपतवरों की 2-5 पत्ती अवस्था में 100 मिली प्रति एकड़ की दर से 150 लीटर पानी में मिला कर स्प्रे किया जाता है।

 

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.