पूसा बासमती-1885 (झुलसा और झोंका रोगरोधी)

Share

21 जून 2022, नई दिल्ली । पूसा बासमती-1885 (झुलसा और झोंका रोगरोधी) – भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान द्वारा पूर्व में विकसित और प्रचलित धान किस्म पूसा बासमती-1121 को सुधार कर और रोग रोधी बनाकर नई किस्म पूसा बासमती-1885 विकसित की गई है। इसकी परिपक्वता 145 दिन की है। पकाने के बाद चावल की लंबाई और फैलाव भी पूर्व की 1121 किस्म के समान है। इसमें झोंका रोग नहीं लगता है।

महत्वपूर्ण खबर: राजस्थान में समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद की अवधि 30 जून तक बढ़ी

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.