जनेकृविवि ने तैयार किये 21 हजार क्विंटल ब्रीडर सीड

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

26 अप्रैल 2021, जबलपुर । जनेकृविवि ने तैयार किये 21 हजार क्विंटल ब्रीडर सीड – जवाहरलान नेहरू कृषि विष्वविद्यालय ने कोरोना काल की विषम परिस्थितियों में भी गेहॅूं, चना, मसूर, अलसी, रामतिल, मटर, चारा फसलों सहित विभिन्न फसलों की उन्नतषील प्रजातियों के 21 हजार कि्ंवटल प्रजनक बीज तैयार कर लिये हैं । आने वाले सीजन में इन्हें किसानों को दिया जायेगा। विष्वविद्यालय के 28 अनुसंधान केन्द्रों और प्रक्षेत्रों पर लगभग 666 हेक्टेयर क्षेत्र में यह उत्पादन लिया गया है।

संचालक प्रक्षेत्र डॉं. दीप पहलवान ने बताया कि यह उन्नत प्रजनक उन्नत बीज किसानों के साथ शासकीय संस्थाओं, सहकारी समितियों, प्रगतिषील किसान एवं आवष्यकतानुसार अन्य विभागों को उपलब्ध कराए जायेंगे। विष्वविद्यालय द्वारा तैयार किये गए बीजों की बहुत ज्यादा मांग होती है देष के कुल उत्पादन का 15ः बीज उत्पादन की योगदान जवाहरलान नेहरू कृषि विष्वविद्यालय करता है। बीज उत्पादन के क्षेत्र में विष्वविद्यालय विगत डेढ़ दषक से प्रथम स्थान पर है। बीज वितरण हेतु एकल खिड़की केन्द्र स्थापित किया गया है।

प्रजनक बीज उत्पादन कार्यक्रम

रबी 2020-21 सीजन में प्रजनक बीज उत्पादन कार्यक्रम विवि के 28 प्रक्षेत्रों पर लगभग 666 हेक्टेयर क्षेत्र में लिया गया था। इसमें गेहॅूं की 13, चने की 6, मसूर की 3, अलसी की 7, रामतिल की 3, मटर की 6, चारा फसलों की 4 तथा अन्य फसलों की विभिन्न उन्नत प्रजातियों का प्रजनक बीज उत्पादन कार्यक्रम लिया गया था। बीज उत्पादन लगभग 21 हजार कि्ंवटल रहा है। उत्पादित प्रजनक बीजों की उन्नतषील प्रजातियों को रबी 2020-21 में भारत सरकार, मध्यप्रदेष शासन के विभिन्न शासकीय संस्थानों, एन.जी.ओ., बीज उत्पादन सहकारी समितियों, प्रगतिषील किसानों एवं अन्य को उपलब्ध कराया जायेगा।

वर्तमान में खरीफ 2021 की फसलों की प्रजनक बीजों के प्रसंस्करण का कार्य किया जा रहा है। किसान भाईयों एवं अन्य को मानक बीज उपलब्ध कराये जाने के उद्देष्य से बीज गुणवत्ता विष्लेषण का कार्य सम्पन्न किया जा चुका है।प्रजनक बीज के वितरण हेतु विवि परिसर में ‘‘एकल खिड़की केन्द्र’’ स्थापित किया गया है।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *