फसल की खेती (Crop Cultivation)

सफेद मूसली की फसल में सिंचाई और उर्वरक का महत्व

Share

24 जून 2024, भोपाल: सफेद मूसली की फसल में सिंचाई और उर्वरक का महत्व – सफेद मूसली की अच्छी फसल के लिए सही सिंचाई और उर्वरक का उपयोग अत्यंत महत्वपूर्ण है। जाने सिंचाई और उर्वरक की विधियों और उनके लाभ।

सिंचाई

ड्रिप सिंचाई सफेद मूसली की व्यावसायिक खेती के लिए आर्थिक और व्यवहार्य पाई गई है। वर्षा के पैटर्न के अनुसार 10-15 दिनों के अंतराल पर कम से कम 6-8 सिंचाई की आवश्यकता होती है।

उर्वरक

अच्छे परिणाम के लिए भूमि की तैयारी के समय 10-15 टन/हेक्टेयर गोबर की खाद डाली जा सकती है। पोषक तत्वों की आपूर्ति के लिए प्रति हेक्टेयर 50:40:40 किलोग्राम एनपीके का उपयोग अनुकूल है।


सही सिंचाई और उर्वरक के उपयोग से पौधों की वृद्धि और उपज में वृद्धि होती है, जिससे किसानों को बेहतर मुनाफा प्राप्त होता है।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements