सोयाबीन फसल में तंबाकू कैटरपिलर का नियंत्रण

Share

23 जुलाई 2022, भोपाल: सोयाबीन फसल में तंबाकू कैटरपिलर का नियंत्रण – मध्य भारत के कुछ क्षेत्रों में तंबाकू कैटरपिलर के प्रकोप की सूचना मिली है। इसके नियंत्रण के लिए निम्नलिखित में से किसी एक कीटनाशक का छिड़काव करने की सलाह दी जाती है। यह कृषि रसायन अन्य पत्ती खाने वाले कैटरपिलर (चने का कीड़ा या सेमीलूपर) को भी मारते  है। इसे नियंत्रित करने के लिए संस्थान ने निम्न प्रकार से कृषि रसायनों का प्रयोग करने की सलाह दी है।


लैम्ब्डा-साइहलोथ्रिन 4.90 सी.एस (300 मिली/हेक्टेयर) या क्विनालफॉस 25 ई.सी (1 लीटर/हेक्टेयर) या क्लोरेंट्रानिलिप्रोल 18.5 एस.सी (150 मिली/हेक्टेयर) एमेमेक्टिन बेंजोएट 1.90 (425 मिली/हेक्टेयर) या ब्रोफ्लैनिलाइड 300 एस.सी (42-62 ग्राम/ हे) या फ्लुबेंडियामाइड 20 डब्ल्यू.जी (250-300 ग्राम / हेक्टेयर) या फ्लुबेंडियामाइड 39.35 एस.सी (150 मिली / हेक्टेयर) या इंडोक्साकार्ब 15.8 एस.सी (333 मिली / हेक्टेयर) या प्रोफेनोफोस 50 ई.सी (1 लीटर / हेक्टेयर) या स्पाइनटोराम 11.7 एस.सी (450 टीएमएल) / एच) या टेट्रानिलिप्रोल 18.18 एस.सी (250-300 मिली / हेक्टेयर) का उपयोग करें |

सोयाबीन फसल में तंबाकू कैटरपिलर का नियंत्रण

तंबाकू कैटरपिलर की पहचान – आगे के पंख: लहरदार सफेद निशान के साथ भूरा रंग। पीछे के पंख: सफेद रंग, किनारे पर भूरे रंग के धब्बे के साथ

महत्वपूर्ण खबर: 12 लाख टन चीनी निकासी की संभावना

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.