जैविक खेती आज की आवश्यकता क्यों ?

डॉ. रजनी सिंह सासोड़े, अनुप्रिया कुलचनिया प्रथम कुमार सिंहआईटीएम यूनीवर्सिटी, ग्वालियर डॉ. प्रद्युम्न सिंहराजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विवि, ग्वालियर (म.प्र.)   28 सितम्बर 2022, जैविक खेती आज की आवश्यकता क्यों ? – जैविक खेती, खेती की पारम्परिक तरीके को अपनाकर

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

आया समय रबी फसलों का

27 सितम्बर 2022, भोपाल । आया समय रबी फसलों का – मानसून की बड़ी मेहरबानी से देश-प्रदेश में औसत से अधिक वर्षा इस वर्ष मिली है। अधिक वर्षा के चलते भूमिगत जलस्तर भी बढ़ा है। खरीफ मौसम में अतिवृष्टि से

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

हिन्दी के हितैषी महात्मा गांधी

14 सितंबर- हिंदी दिवस कुमार कृष्णन   21 सितम्बर 2022, भोपाल । हिन्दी के हितैषी महात्मा गांधी – भांति-भांति की असंख्य विविधताओं वाले भारत में आपस के संवाद के लिए एक सामान्य भाषा की जरूरत आजादी के पहले से महसूस

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements

खरपतवारों को कमजोर समझने की भूल कदापि न करें

19 सितम्बर 2022, भोपाल । खरपतवारों को कमजोर समझने की भूल कदापि न करें  – कीट, रोग, खरपतवार धरा पर मानव समाज के अवतरित होने के बहुत पहले विद्यमान हो चुके थे। वातावरण मौसम, प्रकृति के अतिरेक से लड़-भिडक़र अपनी

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

ज्वार के जरिए खाद्य-सुरक्षा

अरविन्द सरदाना 13 सितम्बर 2022, भोपाल । ज्वार के जरिए खाद्य-सुरक्षा  – साठ के दशक में लाई गई क्रांति ने बेहद सीमित, खासकर गेहूं-चावल की, फसलों को बढ़ावा दिया था। लेकिन इसने कई पौष्टिक, कम लागत की आसान फसलों को

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

कृषि में जल की महत्ता

13 सितम्बर 2022, भोपाल । कृषि में जल की महत्ता – मानसून के अतिरेक को सहते, सुलझते खरीफ अपने अंतिम पड़ाव पर पहुंच ही गया, अब तो कटाई उपरांत आंकड़े ही बतलायेंगे कि वर्ष 2022 का खरीफ कैसा रहा। कृषि

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements

प्रो. सेन जिंदगी भर गरीबों और हाशिये के हिमायती रहे

डॉ. रमेश चंद, सदस्य, नीति आयोग 6 सितम्बर 2022, भोपाल । प्रो. सेन जिंदगी भर गरीबों और हाशिये के हिमायती रहे  – प्रो. अभिजित सेन ऐसे प्रतिभाशाली अर्थशास्त्री थे, जिन्होंने ज्यादातर ग्रामीण और कृषि अर्थव्यवस्था पर काम किया। उन्होंने नीति निर्माण

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

सब्जी उत्पादन का विकास लाभकारी खेती का आईना

6 सितम्बर 2022, भोपाल । सब्जी उत्पादन का विकास लाभकारी खेती का आईना – कृषि को लाभ का धंधा बनाने की दिशा में सब्जी उत्पादन का महत्व आज की स्थिति में बहुत बढ़ गया है। भारत एक शाकाहारी प्रधान देश है

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

आजादी का अमृत महोत्सव : दलितों और दरिद्रों को कब मिलेगी आजादी ?

डॉ. चन्दर सोनाने, मो. : 9425092626   31 अगस्त 2022, भोपाल । आजादी का अमृत महोत्सव : दलितों और दरिद्रों को कब मिलेगी आजादी ?  आइये, केवल तीन उदाहरणों के माध्यम से देश में दलितों, वंचितों और दरिद्रों की व्यथा को

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

अब जल संरक्षण की बारी

31 अगस्त 2022, भोपाल । अब जल संरक्षण की बारी – प्रकृति की क्षमता को कोई पार नहीं पा सकेगा। भारतीय कृषि में मानसून का दखल इतना अधिक है कि पल में तोला और पल में माशा जैसी स्थिति बन जाती

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें